अमेरिका के पहले अश्वेत विदेश मंत्री कोलिन पावेल का कोरोना के चलते निधन

वाशिंगटन: अमेरिका के पहले अश्वेत विदेश मंत्री रहे कोलिन पावेल का कोरोना संक्रमण की चपेट में आने के चलते 84 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है। उन्होंने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ले रखी थीं। जमैका के प्रवासी माता-पिता की संतान पावेल को तत्कालीन राष्ट्रपति जार्ज डब्ल्यू बुश ने 2001 में विदेश मंत्री नियुक्त किया था। विदेश मंत्री रहने के दौरान वे इराक पर हमले के बड़े पैरोकार के रूप में उभरकर सामने आए थे। 

उनके परिवार ने फेसबुक पर कहा था कि पहले अश्वेत अमेरिकी विदेश मंत्री, जिनके कई रिपब्लिकन प्रशासनों में नेतृत्व ने 20वीं सदी के अंतिम सालों और 21वीं सदी के शुरुआती वर्षों में अमेरिकी विदेश नीति को आकार देने में सहायता की। उनके परिवार ने कहा है कि हमने एक उल्लेखनीय और प्यार करने वाले पति, पिता, दादा और एक महान अमेरिकी को खो दिया है। 1991 में खाड़ी युद्ध के दौरान वह चार स्टार जनरल होने के नाते अमेरिकी फ़ौज के ज्वाइंट चीफ आफ स्टाफ के प्रमुख थे।

उस वक़्त बुश के पिता जार्ज एच.डब्ल्यू. बुश अमेरिका के राष्ट्रपति थे। पावेल ने 2003 में यूनाइटेड नेशंस में इराक के तत्कालीन राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन को दुनिया के लिए खतरा बताया था। उसके बाद अमेरिका ने इराक पर हमला किया और सद्दाम हुसैन की सत्ता को उखाड़ फेंका था। बाद में सद्दाम हुसैन के खिलाफ उनके सबूत सही नहीं पाए गए, जिससे उनकी छवि को काफी धक्का लगा था।

वर्चुअल मीटिंग करेंगे अमेरिका, यूएई, भारत और इस्राइल के विदेश मंत्री

रूसी विदेश मंत्रालय ने NATO के लिए ऑपरेशन मिशन को किया स्थगित

एक बार फिर उत्तर कोरिया ने दागी बैलिस्टिक मिसाइल, दुनिया में मची खलबली

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -