अमरीकन थिंक टैंक का मानना अलकायदा से ज्यादा खतरनाक है इस्लामिक स्टेट

वाशिंगटन: वैसे तो आतंकी संगठन से सभी नफरत करते है तथा उनकी तुलना ना करके उन सभी को सामान मानते है लेकिन अमेरिकी थिंक टैंक का मानना है कि 1990 के दशक के आखिर में यूरोप को आतंकवादी संगठन अलकायदा से जितना खतरा था, उससे कहीं अधिक खतरा मौजूदा समय में इस्लामिक स्टेट (आईएस) के आतंकवादियों से है। 

पिछले महीने बेल्जियम की राजधानी ब्रसेल्स में एक हवाई अड्डे और एक मेट्रो स्टेशन पर तीन बम विस्फोटों में 30 से ज्यादा लोग मारे गए थे साथ ही इस आतंकी हमले को याद करते हुए  अपनी इन पुरानी यादो को यानी ओसामा बिन लादेन की सरपरस्ती वाले आतंकवादी समूह अलकायदा ने 11 सितंबर, 2001 को अमेरिका के न्यूयॉर्क व वाशिंगटन डीसी में अंजाम दिया था को याद करने से नहीं रोक पाए। 

इसी का ज़िक्र करते हुए अमेरिकी थिंक टैंक 'रैंड कार्पोरेशन' के सहायक राजनीतिक वैज्ञानिक कोलिन पी. क्लार्क ने बताया की मेरे ख्याल से यूरोप में हालात 1990 के दशक में अलकायदा के होते जो हो रहा था, उससे भी कहीं अधिक दिल दहला देने वाले हैं।' आईएस न केवल इराक व सीरिया में बड़ी तादाद में जमीनों पर कब्जा कर मध्य पूर्व को जीतने का बिगुल बजाया हुआ है, बल्कि पूरे यूरोप में भीषण आतंकवादी हमले कर अपना असल रूप दिखाया है। हम आपको बता दे की यह सही भी है आईएस के आतंकवादियों ने पिछले साल नवंबर में पेरिस में कई हमले किए, जिसमें 130 लोग मारे गए थे। 

साथ ही हम आपको जानकारी दे दे की ISIS के हैकरो ने हाल ही अमेरिका के डिफेंस मिनिस्ट्री अधिकारियो को धमकाते कहा है कि हमने 70 से ज्यादा मिलिट्री पर्सनल की 'हिटलिस्ट' पब्लिश की है जो सीरिया में अलग-अलग आतंकी ठिकानों पर किए गए ड्रोन हमलों में शामिल हैं। तथा उनके बारे में कहा कि 'वे जहां कहीं भी हों, उनके दरवाजे खटखटाओ और उनके सिर कलम कर दो, उन्हें चाकू मार दो, गोली मार दो या बम फेंक दो।'

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -