इस अद्भुत जैल से होगी मंगल ग्रह पर रौशनी

इस अद्भुत जैल से होगी मंगल ग्रह पर रौशनी

 

वाशिंगटन : वैज्ञानिक मंगल ग्रह पर तो पहुँच ही चुके हैं और उस पर ये इस बात की तयारी की जा रही है कि वहां जल, ज़मीन मिल सके और ताकि वो ग्रह भी धरती की तरह ही बन जाए. इस पर खोज अब भी जारी है और वैज्ञानिक लगातार इस पर अपनी शक्तियों से मंगल पर घर बनाने की कोशीश कर रहा है और इसी बारे में कुछ और जानकारी हाथ लगी है जिसे हम बताने जा रहे हैं.

'सूर्य-स्पर्श' की पार्कर थ्योरी पर इसी खगोलशास्त्री को था भरोसा

जानकारी के लिए बता दें कि अमेरिका के वैज्ञानिकों ने मंगल ग्रह पर ग्रीन हाउस जैसी सुविधाएं विकसित की हैं. इससे रोशनी उत्पन्न करने वाला एक पारदर्शी जेल बनाया है. ये जानकर आपको हैरानी होगी कि इस जेल का निर्माण बीयर के कचरे से हुआ है जिसका नाम 'एरोजेल' रखा गया है. ये जेल एक कांटेक्ट लेंस की तरह दिखाई देता है जिसे एक प्लास्टिक के में रखा गया है. इस जेल में काफी ऊर्जा है और इसका इतेमाल ऊर्जा की बचत के लिए भविष्य में बड़ी से बड़ी इमारत को बनाने में भी किया जायेगा. 

ये जेल बहुत ही तेज़ रौशनी देता है और अगर आप इसे हाथ पर रखेंगे तो आग की तरह रौशनी प्रदान कर सकेगा. अमेरिका में बोल्डर (सीयू बोल्डर) में कोलोरेडो यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर इवान स्माल्याख ने कहा, 'खिड़कियों में इस जेल का उपयोग आसानी से किया जा सकता है और अंतरिक्ष में भी इसका इस्तेमाल अन्य ग्रहों पर भी किया जा सकता है.' वैज्ञानिकों का मानना है कि मंगल के साथ-साथ ये अन्य ग्रह पर भी काम कर सकता है फ़िलहाल ये मंगल के लिए ही बीयर के कचरे से बनाया गया है.

खबरें और भी..

नासा ने एक दिन के लिए टाला अपना सोलर स्पेस मिशन

‘सूर्य स्पर्श’ के लिए नासा का ऐसा होगा अंतरिक्षयान

 

 

?