दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था इस वजह से हुई स्लोडाउन

दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था इस वजह से हुई स्लोडाउन

दुनिया के चर्चित लोगों में शामिल शेक्सपियर ने कहा था, 'नाम में क्या रखा है.', लेकिन नाम का बहुत महत्व है. इसी वजह से धरती पर तबाही लाने वाले तूफान और घातक बीमारियों के नाम तक दिए जाते हैं.समुद्री तूफानों के विचित्र नाम अक्सर हमारे सामने आते रहते हैं, लेकिन इस बार एक नाम पूरी दुनिया के सामने आया है 'कोविड-19 (सीओवीआइडी)'. इस नाम से इस समय दुनिया खौफ में है.

World Radio Day: सिर्फ मनोरंजन ही नहीं, बल्कि कई मायनों में ख़ास है रेडियो

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि 1100 से अधिक लोग आधिकारिक रूप से इस बीमारी के शिकार बन चुके हैं, जबकि हजारों लोग संक्रमित हैं और दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में स्लोडाउन इस बीमारी की वजह से आ गया है. आप सही सोच रहे हैं हम बात कर रहे हैं नोवल कोरोना वायरस की, जिसे कोविड-19 (सीओवीआइडी) लिखा जाएगा और संक्षेप में एनसीओवी-19. निश्चित रूप से आपके दिमाग में सवाल होगा कि क्यों और कैसे किसी बीमारी को कोई नाम दिया जाता है.

Coronavirus के चलते टेक इवेंट MWC 2020 हुआ रद्द, पढ़िए पूरी खबर

पहले एक ही बीमारी को संयुक्त राष्ट्र संघ के गठन से दुनिया में अलग-अलग नामों से जाना जाता था, जिसकी वजह से कई बार भ्रम की स्थिति हो जाती थी. इस समस्या का निदान विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने निकाला. अब यह डब्ल्यूएचओ की जिम्मेदारी है कि वह किसी नई बीमारी को एक नाम दे, ताकि सभी शोध संस्थानों और अस्पतालों को एक मानक मिले. इससे इलाज में काफी मदद भी मिलती है.

दुनिया के सबसे अमीर शख्स जेफ़ बेजोस ने ख़रीदा सबसे महंगा मकान, कीमत जानकर चकरा जाएगा दिमाग

#CoronaVirus: जान बचाने के लिए अब इस जानवर का गोश्त खा रहे चीनी लोग, कहीं खड़ी ना हो जाए नई मुसीबत

आज पाकिस्तान पहुंचेंगे तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन, इन अहम् मुद्दों पर इमरान खान के साथ करेंगे बैठक