हवाई जहाज में एक्स्ट्रा ईंधन पड़ जाता है भारी, जानिए क्या होता है विमान डंपिंग

हवाई जहाज में एक्स्ट्रा ईंधन पड़ जाता है भारी, जानिए क्या होता है विमान डंपिंग

विमान का सफर दुनिया में सबसे सुरक्षित माना जाता है. क्योकि विमान दुघर्टना बहुत कम ही होती है. लेकिन इस बार हम बात करने वाले है,विमान डंपिंग के बारें में बता दे कि अमेरिका से एक विमान लॉस एंजिलिस जा रहा था. इस विमान में किसी तरह की तकनीकी समस्या आ गई जिसके कारण उस विमान की लॉस एंजिलिस पर फ्यूल डंपिंग प्रक्रिया के जरिए सुरक्षित लैंडिंग कराई गई. दरअसल फ्यूल डंपिंग के लिए विमानन कंपनियों की ओर से इलाके और परिस्थितियां निर्धारित की गई हैं.

किस तरह से हटाया जा सकता है ट्रम्प को राष्‍ट्रपति पद से, जाने क्‍या है संख्‍या का बड़ा खेल

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार किसी भी विमान को दूसरे इलाकों में फ्यूल डंप करना मना होता है मगर जिस तरह से अमेरिकी विमान ने इमरजेंसी लैंडिंग से पहले फ्यूल डंप किया उससे एक स्कूल के 26 बच्चे उसकी चपेट में आ गए. इस वजह से स्कूल के बच्चे और स्टाफ को मामूली चोटें आई हैं. इस घटना के बाद से लोगों के मन में ये सवाल उठ रहा है कि आखिर ऐसी कौन सी परिस्थितियां पैदा हो जाती हैं जिसके कारण विमान को इमरजेंसी के लिए रखे गए फ्यूल को ही डंप करना पड़ जाता है.

बैडमिंटन चैम्पियन मोमोता को हॉस्पिटल से मिली छुट्टी

अगर आपको नही पता तो बता दे कि विमान अक्सर किसी भी स्थिति से निपटने के लिए अपने साथ अतिरिक्त ईंधन लेकर चलते हैं. इस अतिरिक्त ईंधन के कारण विमान का वजन अपने अधिकतम स्तर तक पहुँच जाता है. ये सुरक्षित लैंडिंग के लिए सही नहीं माना जाता है. लैंडिंग के समय विमान का वजन ज्यादा नहीं होना चाहिए. कई बार तकनीकी खराबी या अन्य वजहों से विमान को उड़ान भरने के तुरंत बाद ही लैंड करना पड़ जाता है.

ब्रिटिश महिला पुलिसकर्मी की हत्या कर भागा था पाकिस्तानी बदमाश, 15 साल बाद पुलिस के हाथ लगा

परवेज मुशर्रफ ने फांसी से बचने के लिए अपनाया नया तरीका

ताइवान ने चीन को किया नजरअंदाज, मरीन ड्रील करके किया पलटवार