चीन-अमेरिका टेंशन से वैश्विक बाजार में उथलपुथल, US डॉलर पर पड़ा ये असर

चीन-अमेरिका टेंशन से वैश्विक बाजार में उथलपुथल, US डॉलर पर पड़ा ये असर

वाशिंगटन: दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं अमेरिका और चीन के बीच शब्दों की बढ़ती जंग ने चीनी करंसी युआन पर भारी दबाव डाला,  क्योंकि इक्विटी बाजारों में होने वाले उतार-चढ़ाव की तुलना में इस समय निवेशक अधिक सतर्क थे। इसका सबसे बड़ा कारण हांगकांग है। दरअसल, अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने बुधवार को कहा कि चीन की ओर से हांगकांग कानून लागू करने की योजना "केवल उन कार्यों की श्रृंखला में नवीनतम है जो मूल रूप से शहर की स्वायत्तता और स्वतंत्रता को कमजोर करते हैं"।

अमेरिका-चीन संबंधों के एक युआनने बुधवार को ऑफशोर ट्रेड में 7.1966 प्रति डॉलर के निम्न स्तर को छुआ और गुरुवार को 7.1852 के स्तर पर रहा। वहीं, लंदन सत्र के दौरान ऑस्ट्रेलियाई और कीवी ने दो महीने के उच्चतम स्तर पर वापसी की और एशियाई व्यापार के दौरान दोनों में गिरावट रही। ऑस्ट्रेलियाई AUD =  D3, 0.5% नीचे $ 0.6592 पर था और कीवी NZD= D3, $ 0.6174 पर था।

इस उथलपुथल पर वेलिंगटन में BNZ के वरिष्ठ बाजार रणनीतिकार जेसन वोंग ने कहा कि, "कुल मिलाकर, मैक्रो कहानी को अनदेखा करना मुश्किल है, क्योंकि चीजें तेजी से बदल रही हैं। उन्होंने कहा कि “लेकिन कहीं ना कहीं, यह स्पष्ट है कि चीन बाजारों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। बाजार चीन की प्रतिक्रिया (हांगकांग पर) का इंतजार कर रहे हैं और हम इसके बीच में ही थोड़ा फंस गए हैं। ”

जांच की वजह से जेपी इंफ्राटेक को लग सकता है तगड़ा झटका

SBI : ब्याज दर को लेकर बैंक ने ग्राहकों को दिया तगड़ा झटका

इन तरीकों से कोरोना संकट में संभाल सकते है अपने आर्थिक हालत