यहाँ हर घर के बाहर बनी होती है पुरुषों के लिंग की तस्वीर

Jan 03 2019 02:21 PM
यहाँ हर घर के बाहर बनी होती है पुरुषों के लिंग की तस्वीर

भारत के पड़ोसी देश भूटान के एक ऐसे रिवाज के बारे में हम आपको बता रहे हैं जिसके बारे में जानकर आप भी दंग रह जाएंगे. भूटान में एक ऐसा गांव है जहां हर घरों के दरवाजों और अन्य प्रमुख स्थानों पर पुरूष के लिंग की तस्वीरें बनाई जाती है. जी हाँ... कोई भी नया व्यक्ति ये नजारा देखकर हैरान रह जाता है. हम बात कर रहे है भूटान के थिंबू शहर और पुनाखा गांव के बारे में जहां पर सभी घरों की दीवारों, दरवाजों आदि पर पेनिस के जैसी तस्वीरें बनी रहती हैं.

Image result for पुनाखा गांव

लेकिन आखिर यहाँ पर ऐसा क्यों किया जाता है इसके पीछे की एक कहानी है जो काफी प्रसिद्द है. आपको बता दें कि 15 वीं शताब्दी में ही इस पेनिस आर्ट का उद्भव हो चुका था और इस आर्ट का उद्धव शिक्षा प्रचार करने भूटान आए तिब्बतियन गुरू द्रुक्‍पा कुन्‍ले ने किया था. गुरु ने इस दौरान ये तय किया था कि उनके द्वारा हवा में चलाए गए बाण से तीर का निशाना जहां लगेगा वे उस स्थान पर ही अपना मठ बनाएंगे.

Image result for पुनाखा गांव

फिर वो उस तीर को खोजते हुए एक कमरे में पहुंचे जो एक "पेलसंग बुटी" नाम की लड़की का कमरा था. गुरु उसे देखते ही उसकी सुंदरता पर मोहित हो गए और सारी रात उसके साथ बिताई साथ ही उन्होंने उसके साथ यौन संबंध भी बनाया. रात में ही वो लड़की गर्भवती हो गई और फिर गुरू वहीं रहने लगे और वहां पेनिस की लकड़ी की मूर्ति भी लगा दी. तब से उस मठ "उर्वरता मठ" कहा जाने लगा.

भूटान के पश्चिमी भाग में मानते है जीववादी प्रथाओं को

इसके बाद से ही वो गुरु कामुकता में डूबने लगा. पहले तो वो पूरे दिन महिलाओं के साथ शराब पीता था और फिर वो कुंआरी लड़कियों के साथ संबंध बनाता था. इस घटना के बाद से ही भूटान में इस गुरु की पहचान प्रजनन गुरु के तौर पर होने लगी और वो आशीर्वाद के रूप में अपने भक्तों के साथ संभोग करता रहा. इस वजह उसके समय से ही यहां पेनिस आर्ट का उद्भव होने लगा और सभी लोग अपने घर के बाहर इसका चित्र बनाने लगे.

इस गांव में पुरुष का लिंग देखते ही भाग जाती हैं चुड़ैल

नर्क में जाने के समान है ये मंदिर, मूर्तियां देखते ही खड़े हो जाएंगे रोंगटे

मादा का मूत्र चखने के बाद ही सम्बन्ध बनाता है ये विशाल जानवर