संसद की समिति के सामने नहीं पेश हुआ अमेजन, मीनाक्षी लेखी ये कही ये बात

संसद की समिति के सामने नहीं पेश हुआ अमेजन, मीनाक्षी लेखी ये कही ये बात

डेटा संरक्षण विधेयक पर संसद की जॉइंट कमिटी के समक्ष अमेजन ने 28 अक्टूबर को हाजिर होने से मना कर दिया है। बीजेपी सांसद तथा पैनल प्रमुख मीनाक्षी लेखी ने कहा, अमेजन का संसदीय कमिटी के सामने हाजिर होने से मना करना विशेषाधिकार के हनन के समान है। मीनाक्षी लेखी ने इसके साथ ही कहा, डेटा संरक्षण विधेयक को लेकर हाजिर होने से मना करने पर अमेजन के विरुद्ध सरकार द्वारा कार्रवाई करने के लिए कमिटी एकमत है।

वही ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन ने डाटा सिक्योरिटी विधेयक पर संसद की जॉइंट कमिटी के सामने हाजिर होने से मना कर दिया है, जिसे बीजेपी सांसद और कमिटी की अध्यक्ष मीनाक्षी लेखी ने विशेषाधिकार हनन के बराबर करार दिया है। कमिटी ने अमेजन के प्रतिनिधियों से 28 अक्टूबर को हाजिर होने को कहा था। लेखी ने शुक्रवार को कहा कि ‘कमिटी की सर्वसम्मत राय है कि ई-कॉमर्स कंपनी के विरुद्ध सरकार को दंडात्मक कार्यवाही के लिए सुझाव दिया जा सकता है।’ 

उन्होंने कहा, ‘अमेजन ने 28 अक्टूबर को कमिटी के समक्ष हाजिर होने से मना कर दिया है और अगर ई-कॉमर्स कंपनी की तरफ से कोई हाजिर नहीं हुआ तो यह विशेषाधिकार उल्लंघन के समान होगा।’ बहरहाल, फेसबुक की पब्लिक पॉलिसी प्रमुख अंखी दास डाटा सिक्योरिटी के मसले पर शुक्रवार को कमिटी के समक्ष हाजिर हुईं। सूत्रों ने बताया कि कमिटी के मेंबर्स ने फेसबुक इंडिया के प्रतिनिधियों से कई प्रकार के प्रश्न पूछे। बैठक के दौरान एक मेंबर ने कहा कि सोशल मीडिया कंपनी को अपने विज्ञापनदाताओं के वाणिज्यिक लाभ के लिए अपने यूजर्स के डाटा में सेंध नहीं लगाने देनी चाहिए। कमिटी ने माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर के अफसरों को 28 अक्टूबर को तथा गूगल और पेटीएम के प्रतिनिधियों को 29 अक्टूबर को तलब किया है।

ओएनजीसी ने जीते 7 ऑयल ब्लॉक

RRVL-फ्यूचर ग्रुप डील में रिलायंस की जगह लेने का प्रयास कर रहा है अमेज़न

प्याज़ की कीमतों में लगी आग, आज शाम 4 बजे प्रेस वार्ता करेगी सरकार