जाने सपनों की रहस्यमायी दुनिया की रोचक बातें

जाने सपनों की रहस्यमायी दुनिया की रोचक बातें

सपनों की दुनिया आज भी वैज्ञानिकों के लिए रहस्यमायी है और शोध आज भी जारी हैं. जब हम आँखें बंद करके सो जाते हो और नींद लगने के बाद हम खुद को किसी रहस्यमायी दुनिया में पाते हैं. सब कुछ विज़ुअल दिखाई देता है जिसकी सिर्फ कल्पना ही की जाती है पर आज भी यह एक रहस्य बना हुआ है. आइये जानते हैं सपनों से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

1. सपना देखते समय हमारा शरीर पैरालाइज्ड हो जाता है. जब हम सोते हैं, तो 90 मिनट के अंदर हमारा शरीर लाइट स्लीप स्टेज से डीप स्लीप स्टेज में पहुंच जाता है. एक बार जब हम रैपिड आई मूमेंट (REM) स्लीप स्टेट में प्रवेश कर जाते हैं, तो हमारा शरीर पैरालाइज्ड हो जाता है. और तब हमें सपना आता है. यही वजह है कि कई बार हम सपना देखते हुए हाथ-पैर हिलाना चाहते हैं, लेकिन हिला नहीं पाते. ऐसा लगता है जैसे किसी ने हमारे हाथ-पैर को जकड़ लिया हो.

2. कई लोग सोते समय स्लीप पैरालिसिस में चले जाते हैं. इस स्टेट में उन्हें अपने कमरे में कुछ आवाजें सुनाई देती हैं, मानव आकार और यहां तक कि किसी अजनबी के कमरे में होने का अहसास होता है.

3. आमतौर पर हम हर रात 4 से 6 सपने देखते हैं. साल भर में हम औसतन 1,460 से 2,190 सपने देखते हैं.

4. हम अपनी जिंदगी के 25 साल सोते हुए बिताते हैं, इनमें से 6 साल या इससे ज्यादा समय सपने देखने में बीतता है.

5. हम अपने सपने का 95 से 99 प्रतिशत तक हिस्सा उठते ही भूल जाते हैं. जो हमें याद रहता है वह बस बचा हुआ 1 से 5 प्रतिशत सपना है. अब आप सोच रहे होंगे न कि बाकी के सपने में क्या देखा होगा!

6. खर्राटे लेते वक्त सपने देखना असंभव है.

7. नेत्रहीन लोग भी सपने देखते हैं. जो जन्म से नेत्रहीन होते हैं, उन्हें सपने में दृश्यात्मक अनुभव की जगह आवाजें, स्पर्श और स्वाद वगैरह का अनुभव होता है.

8. जो लोग पैदा होने के कुछ समय बाद नेत्रहीन हो जाते हैं, उनके सपने में दृश्य भी होते हैं, लेकिन वे दृश्य बस उनके अवचेतन मस्तिष्क में संचित स्मृतियां ही होती हैं.

9. आप अपने सपनों को नियंत्रित भी कर सकते हैं. सपने दिमाग के अवचेतन हिस्से में देखे जाते हैं और जिन सपनों को हम नियंत्रित कर सकते हैं, उन्हें ल्यूडिस ड्रीम्स कहते हैं. इस प्रक्रिया को ल्यू़सिड ड्रीमिंग कहते हैं.

10. हो सकता है कि कभी आपके साथ ऐसा हुआ हो कि आप कोई बहुत रोचक सपना देख रहे हों और बीच में ही आपको किसी ने नींद से जगा दिया हो. वापस सोने पर आपने वही सपना उसी जगह से फिर देखा हो, जहां पर वह टूटा था. अगर ऐसा है तो आपने भी ल्यूसिड ड्रीमिंग को नैचरली एक्सपीरियंस किया है.

11. ठंडे कमरे में सोने पर डरावने सपने आने की संभावना रहती है. घर जितना गर्म होगा, सपने उतने मीठे होंगे.

जाने नींद से जुड़े ये रोचक तथ्य

इस कपल के पास नहीं थी शादी की तस्वीरें इसलिए 60 साल बाद कराया फोटोशूट

खेल-खेल में दिमाग में जा घुसा चॉपस्टिक

 

?