आमलकी एकदशी : भगवान को खुश करने के लिए जरूर गाये यह आरती

Mar 16 2019 03:40 PM
आमलकी एकदशी : भगवान को खुश करने के लिए जरूर गाये यह आरती

आप सभी को बता दें कि पूरे साल में 24 एकादशी व्रत आते हैं और इन 24 एकादशी को हिन्दू धर्म में बेहद पवित्र और पुण्यदायिनी बताया गया है. आप सभी जानते ही होंगे कि अधिक मास में दो एकादशी बढ़ने से यह 26 हो जाती है और सामान्यत: 24 एकादशी का महत्व बताया जाता है. ऐसे में कल यानी 17 मार्च को आमलकी एकादशी है तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं एकादशी की वह आरती, जिसे गाकर आप भगवान को खुश कर सकते हैं. जी हाँ, इस आरती में सभी एकादशियों के नाम शामिल है आइए जानते हैं.

* एकादशी की पावन आरती

ॐ जय एकादशी, जय एकादशी, जय एकादशी माता ।
विष्णु पूजा व्रत को धारण कर, शक्ति मुक्ति पाता ।। ॐ।।

तेरे नाम गिनाऊं देवी, भक्ति प्रदान करनी ।
गण गौरव की देनी माता, शास्त्रों में वरनी ।।ॐ।।

मार्गशीर्ष के कृष्णपक्ष की उत्पन्ना, विश्वतारनी जन्मी।
शुक्ल पक्ष में हुई मोक्षदा, मुक्तिदाता बन आई।। ॐ।।
पौष के कृष्णपक्ष की, सफला नामक है,
शुक्लपक्ष में होय पुत्रदा, आनन्द अधिक रहै ।। ॐ ।।
नाम षटतिला माघ मास में, कृष्णपक्ष आवै।
शुक्लपक्ष में जया, कहावै, विजय सदा पावै ।। ॐ ।।

विजया फागुन कृष्णपक्ष में शुक्ला आमलकी,
पापमोचनी कृष्ण पक्ष में, चैत्र महाबलि की ।। ॐ ।।
चैत्र शुक्ल में नाम कामदा, धन देने वाली,
नाम बरुथिनी कृष्णपक्ष में, वैसाख माह वाली ।। ॐ ।।

शुक्ल पक्ष में होय मोहिनी अपरा ज्येष्ठ कृष्णपक्षी,
नाम निर्जला सब सुख करनी, शुक्लपक्ष रखी।। ॐ ।।

योगिनी नाम आषाढ में जानों, कृष्णपक्ष करनी।
देवशयनी नाम कहायो, शुक्लपक्ष धरनी ।। ॐ ।।
कामिका श्रावण मास में आवै, कृष्णपक्ष कहिए।
श्रावण शुक्ला होय पवित्रा आनन्द से रहिए।। ॐ ।।

अजा भाद्रपद कृष्णपक्ष की, परिवर्तिनी शुक्ला।
इन्द्रा आश्चिन कृष्णपक्ष में, व्रत से भवसागर निकला।। ॐ ।।

पापांकुशा है शुक्ल पक्ष में, आप हरनहारी।
रमा मास कार्तिक में आवै, सुखदायक भारी ।। ॐ ।।
देवोत्थानी शुक्लपक्ष की, दुखनाशक मैया।
पावन मास में करूं विनती पार करो नैया ।। ॐ ।।

परमा कृष्णपक्ष में होती, जन मंगल करनी।।
शुक्ल मास में होय पद्मिनी दुख दारिद्र हरनी ।। ॐ ।।
जो कोई आरती एकादशी की, भक्ति सहित गावै।
जन गुरदिता स्वर्ग का वासा, निश्चय वह पावै।। ॐ ।।

यहाँ जानिए आमलकी एकादशी के शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

17 मार्च को है आमलकी एकादशी, जानिए क्यों रखते हैं व्रत

आज है विजय एकादशी, जरूर करें यह उपाय