आम है आभूषण से एलर्जी की समस्या

आभूषण से एलर्जी की समस्या आम है। यह जानना जरूरी है कि आपको एलर्जी किस धातु से हो रही है। इसके बिना उपचार संभव नहीं। आपने तो अपनी खूबसूरती में चार-चांद लगाने के लिए अपना मनपसंद ईयररिंग पहना, पर जब कुछ घंटे बाद कान में दर्द शुरू हुआ, तब आपको यह महसूस हुआ कि आपकी ईयररिंग से ही आपको एलर्जी हो गई है। आभूषण से होने वाली एलर्जी एक आम समस्या है, जिसका सामना हम में से अधिकांश लोग करते हैं।

दरअसल, आभूषण से होने वाल एलर्जी के सबसे ज्यादा जिम्मेदार निकल नाम का धातु है। यह धातु आभूषणों में आमतौर पर पाई जाती है। सोना और चांदी के शुद्ध रूप मुलायम होते हैं। आभूषण के रूप में ढालने के लिए इन्हें सघन करने की जरूरत होती है। सोने-चांदी आदि के गहने बनाने के लिए इनमें जस्ता और तांबा मिलाया जाता है। जस्ता और तांबा त्वचा को नुकसान नहीं पहुंचाते, लेकिन ये निकल की तुलना में महंगे होते हैं। यही वजह है कि गहनों में निकल मिलाया जाता है और इसका नुकसान आपकी त्वचा को भुगतना पड़ता है। अगर आभूषण पहनने वाले हिस्से पर रैशेज हो गया है, त्वचा में सूजन हो गई या त्वचा पर खुजली हो रही हो तो इसका कारण आभूषण से एलर्जी हो सकती है। सर्वेक्षणों में पाया गया है कि लगभग हर सात लोगों में से एक को निकल से एलर्जी होने की आशंका होती है। पीला सोना अर्थात 14 कैरेट से अधिक के सोने से आमतौर पर एलर्जी नहीं होती है। 

ऐसे बचें एलर्जी से 
स्किन स्पेशलिस्ट का कहना है कि आज कोई भी चीज शुद्ध नहीं है। वैसे सोना या चांदी से कभी एलर्जी नहीं होती। लेकिन जब आभूषणों में निकल, कोबाल्ट और क्रोमियम जैसी धातुओं की मिलावट ज्यादा हो तो ये प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं। वहीं, आर्टिफिशियल ज्वेलरी में तो लेड मिलाया जाता है, जिससे सबसे अधिक नुकसान होता है। एलर्जी का कोई पर्मानेंट इलाज नहीं है। अगर एलर्जी के बावजूद भी आप आभूषण पहनना चाहती हैं, तो पैच टेस्ट करवाएं ताकि पता लग सके कि आपको किस धातु से एलर्जी है। इसके बाद ही उपचार शुरू होता है।

ये भी हैं विकल्प
आमतौर पर चांदी के गहने स्टर्लिग चांदी से निर्मित होते हैं, जिसमें बेहद कम मात्र में तांबा मिलाया जाता है ताकि चांदी कठोर और टिकाऊ बन सके। स्टर्लिग चांदी एलर्जी वालों के लिए आदर्श है। 

बाली सिल्वर और थाई हिल ट्राइब सिल्वर भी शुद्ध चांदी हैं। इनमें निकल की मिलावट नहीं होती । कॉपर के गहने भी आमतौर पर निकल या अन्य मिश्र धातुओं से नहीं बनाए जाते। यानी यह भी आपके लिए पूरी तरह से सुरक्षित है। आजकल जूट और स्टोंस से भी कई तरह की  हैंडमेड ज्वेलरी बनाई जाती है। ये आकर्षक भी होती हैं और इनसे किसी तरह की एलर्जी भी नहीं होती।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -