अयोध्या मामला: आसान नहीं है राम मंदिर की राह, अब मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड दाखिल करेगा पुनर्विचार याचिका

अयोध्या मामला: आसान नहीं है राम मंदिर की राह, अब मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड दाखिल करेगा पुनर्विचार याचिका

नई दिल्ली: अयोध्या मामले को लेकर आए 'सुप्रीम' फैसले के खिलाफ मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड शुक्रवार दोपहर बाद सर्वोच्च न्यायालय में रिव्यू पिटीशन दाखिल करेगा. पर्सनल लॉ बोर्ड अयोध्या केस में मुस्लिम पक्षकार हाजी महबूब, मो. उमर, मौलाना महफूजुर्रहमान, बादशाह खान की तरफ से पुनर्विचार याचिका दाखिल करेगा. जबकि, सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड और इकबाल अंसारी ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा फैसला दिए जाने के बाद ही कह दिया था कि वो इस मामले में अब कोई कानूनी कदम नहीं उठाएंगे.

अयोध्या राम मंदिर और बाबरी मस्जिद मामले के पक्षकार मौलाना महफुजुर्रहमान के नामित खालिक अहमद खान ने बताया है कि रिव्यू पेटिशन दाखिल करने के हलफनामे पर हस्ताक्षर लिए जा चुके हैं. मुस्लिम पक्षकार हाजी महबूब, मो. उमर, मौलाना महफूजुर्रहमान और बादशाह खान जैसे स्थानीय पक्षकारों के हस्ताक्षर पुनर्विचार याचिका पर हैं.

सूत्रों की मानें तो शीर्ष अदालत में मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की तरफ से वकील राजीव धवन रिव्यू पिटीशन दाखिल करेंगे. जबकि, जमीयत उलेमा हिंद के अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी ने सोमवार को सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को लेकर रिव्यू पिटीशन दाखिल की थी, जिससे राजीव धवन को हटा दिया था. इसके बाद राजीव धवन ने सोशल मीडिया से लेकर जमियत उलेमा-ए-हिंद को पत्र भेजकर अपने पीड़ा को बयां किया था. 

10 हजार के ट्रांजैक्शन की छूट के साथ रिजर्व बैंक ने पेश किया यह कार्ड

पेट्रोल के दाम में आयी गिरावट, जानिये आज का रेट

Marrakech International Film Festival में देसी अवतार में पहुंची प्रियंका, लगीं बहुत खूबसूरत