'आप' से फिर असंतुष्ट दिखी अलका लांबा, छोड़ सकती हैं पार्टी का दामन

'आप' से फिर असंतुष्ट दिखी अलका लांबा, छोड़ सकती हैं पार्टी का दामन

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी (आप) की विधायक अलका लांबा ने दावा किया है कि दिल्ली के सीएम और पार्टी अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल ने उन्हें ट्विटर पर 'अनफॉलो' कर दिया है और उन्हें वर्तमान हालात में पार्टी में काम करने में परेशानी हो रही है. इससे पहले, गत वर्ष दिसंबर में लांबा ने दावा किया था कि 'आप' ने उनसे पूर्व सीएम राजीव गांधी से भारत रत्न वापस लेने के प्रस्ताव का विरोध करने पर इस्तीफे की मांग की  थी. हालांकि, आप ने इस दावे को सिरे से नकार दिया था. 

राहुल गाँधी पर बरसे गडकरी, कहा 'मुझे आपके सर्टिफिकेट की जरुरत नहीं'

चांदनी चौक से 'आप' विधायक ने बताया कि मुझे ऐसा अहसास हो रहा है कि, पार्टी अब मेरी सेवा नहीं चाहती. किन्तु जब तक मैं विधायक हूं, अपने क्षेत्र के लोगों के लिए कार्य करती रहूंगी. लांबा ने कहा है कि, उन्होंने आप नेतृत्व को एक संदेश भेज कर पूछा है कि पार्टी का आला कमान उनके प्रति अपना रुख स्पष्ट करें. अलका ने दावा किया कि उन्हें पार्टी के तमाम आधिकारिक वाट्सएप ग्रुप से रिमूव कर दिया गया है. 

ममता का संविधान बचाओ धरना तीसरे दिन भी जारी, बंगाल सरकार पर CBI भारी

लांबा ने कहा है कि, पार्टी लाइन, मीटिंग कार्यक्रम की सूचना उन्हें इन्हीं ग्रुप्स से मिलती थी, किन्तु अब उन्हें दूसरे विधायकों से इस बारे में  पूछना पड़ता है. लांबा ने कहा है कि, उन्होंने इस मसले पर चांदनी चौक के लोकसभा प्रभारी पंकज गुप्ता से भी चर्चा की थी और उन्होंने आश्वासन दिया था कि आपको ग्रुप्स में फिर से जुड़वा दिया जाएगा, किन्तु आज तक ऐसा नहीं हुआ और अब सीएम केजरीवाल ने भी ट्विटर पर मुझे अनफॉलो कर दिया है. ऐसी स्थिति में मेरे लिए काम करना मुश्किल है, क्योंकि मैं अपने आत्मसम्मान के साथ समझौता नहीं कर सकती.

खबरें और भी:-

गिरिराज सिंह ने किया ट्वीट, कहा पहली बार कर रहा हूँ कांग्रेस का समर्थन

कुमारस्वामी के पद छोड़ने की धमकी के बाद, अब कांग्रेस नेता ने दिया बड़ा बयान

पश्चिम बंगाल सरकार ने किया है सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन - सीबीआई