बॉलीवुड में आने के बाद भी मशहूर नहीं हो पाए थे अली जफ़र...लग चुके है कई बड़े इल्जाम

बॉलीवुड से फेम कमा चुके पाकिस्तानी एक्टर अली जफर का आज बर्थडे है। उनका जन्म 18 मई 1980 को पाकिस्तान के लाहौर शहर में हुआ था। आज अली 42 वर्ष के हो चुके है। अली जफर अभिनेता ही नहीं बल्कि सॉन्ग राइटर, मॉडल, प्रोड्यूसर और एक अच्छे स्क्रीन राइटर भी हैं। उन्होंने अपना करियर छोटे पर्दे यानी कि टेलीविजन से शुरू कर दिया था। म्यूजिशियन बनने से पहले वह पाकिस्तानी टेलीविजन पर दिखाई देते है। बाद में उन्होंने बॉलीवुड में भी अपना करियर स्थापित किया और उनकी सफलता ने कई पाकिस्तानी एक्टर्स को हिंदी मूवीज में प्रवेश करने के लिए प्रेरित भी किया। इसके माध्यम से अली जफर ने नाम तो बनाया ही अच्छे खासे पैसे भी कमाए। उनके काम के लिए उन्हें कई अवार्ड्स से सम्मानित भी किया जा चुका है। जफर ने म्यूजिक के दम पर नाम कमाना शुरू किया था और अपने पहले एल्बम हुक्का पानी के ‘छन्नो’ गाने की वजह से लोकप्रियता हासिल की थी। इसके लिए उन्हें बेस्ट एल्बम और बेस्ट मेल आर्टिस्ट जैसे पुरस्कार से सम्मानित कर दिया गया था। विश्वभर में जिसकी  मिलियन से अधिक प्रतियां बिकी थीं। अली ने इसे 2003 में रिलीज किया था।

इतना ही नहीं, हिंदी सिनेमा के मशहूर सिंगर और म्यूजिक कंपोजर हिमेश रेशमिया व प्रीतम ने बॉलीवुड के लिए इसका रीमेक भी बनाया जा चुका है। अली अपने म्यूजिक स्किल की लोकप्रियता और डिमांड को भी समझ गए थे। इसे देखते हुए उन्होंने वर्ष 2006 में एक और एल्बम रिलीज किया, जिसका नाम ‘मस्ती’ रखा था। कहा जाता है कि इसे बनाने के लिए 10 मिलियन रुपये का खर्च आया था।

बस फिर क्या था, अली जफर की फैन फॉलोइंग बढ़ती गई और उन्होंने कभी पीछे पलटकर देखना बंद कर दिया। पाकिस्तानी इंडस्ट्री में कामयाबी पाने के बाद अपने करियर को और ऊंचाई देने के लिए उन्होंने बॉलीवुड का रुख किया और वर्ष 2010 में ‘तेरे बिन लादेन’ से अपना बॉलीवुड डेब्यू कर दिया। ये फिल्म पाकिस्तान में तो बैन हो चुकी लेकिन भारतीय दर्शकों के बीच बहुत पसंद की गई थी। इसके लिए भी उन्हें कई अवार्ड्स मिले थे। इनमें IIFA अवॉर्ड्स, स्क्रीन अवॉर्ड्स, जी सिने अवॉर्ड्स, फिल्मफेयर अवॉर्ड्स में बेस्ट मेल डेब्यू जैसे सम्मान भी दिया गया था। यहां से अली जफर के करियर को और भी उड़ान मिली और उस बॉलीवुड डेब्यू के उपरांत उन्हें धड़ाधड़ 40 प्रोजेक्ट भी दिए गए थे। मेरे ब्रदर की दुल्हन, किल दिल, लंदन पैरिस न्यूयॉर्क और टोटल सियापा जैसी बॉलीवुड मूवी में काम करने वाले अली जफर की छवि को तब आघात पहुंचा, जब एक पाकिस्तानी सिंगर मीशा शफी ने ‘मीटू’ के तहत उनपर शारीरिक शोषण का इल्जाम भी लगा दिया था।

हालांकि, बाद में साबित हो गया कि साजिश के तहत उनके विरुद्ध ऐसा कदम उठाया गया था। जफर ने मीशा पर एक बिलियन रुपये का मानहानि मुकदमा दर्ज भी कर दिया गया था। साथ ही मीशा और उनके साथियों को दोषी ठहराया गया था। क्योंकि उनपर और वकील सहित आठ लोगों पर अभिनेता के विरुद्ध साजिश रचने का आरोप लगा था।

करीना की फिल्म की शूटिंग में कंपनी दे रहे बेटे जेह

आखिर क्यों फराह के घर मांग में सिंदूर लगाकर पहुंची थी ऐश्वर्या...सालों बाद हुआ बड़ा खुलासा

अपने बेटे की मूवी में ही कैमियो करते हुए नजर आएँगे आमिर खान

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -