क्रिकेट में भ्रष्टाचार: 'कप्तानों पर रहता है सट्टेबाज़ों का फोकस, T-20 उनका पसंदीदा फॉर्मेट'

नई दिल्ली: क्रिकेट में भ्रष्टाचार और सट्टेबाजी का मुद्दा काफी लंबे समय से चलता आ रहा है. इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) की एंटी करप्शन यूनिट के चीफ एलेक्स मार्शल ने अब इस मुद्दे पर बड़ा बयान दिया है. एलेक्स मार्शल का कहना है कि क्रिकेट में जो भ्रष्टाचारी हैं, उनका पूरा फोकस टीम के कप्तान पर रहता है, भ्रष्टाचारी उनसे संबंध बनाते हैं जो कप्तान के करीबी होते हैं.  

टी-20 विश्वकप के बाद प्रेस वालों से बात करते हुए एलेक्श मार्शल ने बताया कि, ‘भ्रष्टाचारियों को कप्तान, सलामी बल्लेबाज और ओपनिंग बॉलर्स पसंद आते हैं. जो भी कप्तान के करीबी होते हैं, उनके माध्यम से कप्तान से संबंध बनाने की कोशिश की जाती है. एलेक्स मार्शल ने बताया कि भ्रष्टाचारियों का फेवरेट फॉर्मेट टी-20 ही है, जहां वो दो ओवर से लेकर चार ओवर तक का लक्ष्य बनाते हैं. किसी मैच के परिणाम, नो-बॉल या टॉस पर उनका फोकस नहीं होता है, बल्कि मुकाबले के बीच में चीजों को बदला जाता है. भ्रष्टाचारियों ने अपनी सोच को बदला है, क्योंकि अब खिलाड़ी ऐसे मामलों को हमसे साझा करने लगे हैं.

भ्रष्टाचारी किस तरह मैच में अपना दखल देते हैं, इस पर उन्होंने कहा कि ये लोग किसी प्रकार कप्तान से नजदीकी चाहते हैं, किसी पुराने खिलाड़ी द्वारा, टीम मैनेजर द्वारा कैसे भी करके उसके पास जाते हैं, जो कप्तान को जानता है. सबसे अधिक फ्रेंचाइजी लीग में भ्रष्टाचारियों द्वारा इस तरह के प्रयास किए जाते हैं. भारतीय क्रिकेट में भ्रष्टाचार के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि चूँकि, भारत में सट्टेबाजी लीगल नहीं है, इसलिए यहां पर ऐसी चीज़ों को पकड़ पाना कठिन हो जाता है. यहां पर इनकी गिनती अधिक है, मगर आप इन्हें देख नहीं पाएंगे.

विवादों में घिरा विराट कोहली का रेस्टोरेंट, जानिए क्या है मामला?

'5 करोड़ की घड़ी' विवाद पर हार्दिक ने दी सफाई, Twitter पर कही मन की बात

ईएसएफआई भारतीय टीम के प्रायोजक के रूप में एमपीएल स्पोर्ट्स फाउंडेशन के साथ शामिल होगा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -