अखिलेश यादव के अचानक रामपुर आने की खबर से मची खलबली, ऐसा बना राजनीतिक परिदृश्य

सपा के फायरब्रांड नेता तथा रामपुर से सांसद आजम खां को कौन नही जानता है.  
उनकी विधायक पत्नी तथा बेटे के साथ गिरफतारी के बाद अब रामपुर में एक बार फिर राजनीतिक सरगरमी बढ़ी है. समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव का गुरुवार को रामपुर जाने का कार्यक्रम था, जो बाद में रद्द कर दिया गया है. 

Delhi Violence: दिल्ली के दंगाग्रस्त इलाके में भेजे जाएंगे अजित डोभाल

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि अखिलेश यादव का अचानक रामपुर जाने का कार्यक्रम बनने से वहां के माहौल में काफी खलबली मची. माना जा रहा था अखिलेश यादव रामपुर जिला जेल में बंद आजम खां, उनकी विधायक पत्नी तजीन फात्मा बेटे तथा विधायक बेटे अब्दुल्ला आजम खां से भेंट कर सकते हैं. वहां पर बुधवार देर शाम को आजम खां को बैरक नंबर एक में बेटे अब्दुल्ला के साथ रखा गया.अखिलेश यादव का लखनऊ से चार्टर्ड विमान से रामपुर जाने के लिए बरेली लैंड करने का कार्यक्रम था. इसके बाद सड़क मार्ग से रामपुर जाना था. कार्यक्रम तय होने के बाद गुरुवार करीब दस बजे ही अचानक रद कर दिया गया.  

गृह मंत्री अमित शाह का बड़ा बयान, कहा- 'आजाद अंग्रेजी शासन के आगे कभी नहीं झुके'


इस गिरफतारी को लेकर अपने बयान में राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि पार्टी बदले की भावना से की गई किसी भी कार्रवाई को उचित नहीं मानती है.अखिलेश ने अपने बयान में कहीं भी आजम खां या उनके परिवार का नाम नहीं लिया. यादव ने कहा कि रागद्वेष से सरकारें काम नहीं कर सकती हैं. सपा न्यायिक प्रणाली पर भरोसा करती है। अदालत पर विश्वास है कि वहां से सभी को न्याय मिलेगा. सरकार का यह संवैधानिक दायित्व है कि बिना भेदभाव के सबके साथ न्याय करे.

दिल्ली हिंसा से बेहद दुखी हैं UN के महासचिव, लोगों से की संयम बरतने की अपील

कपिल मिश्रा ने आप नेता ताहिर हुसैन पर लगाया संगीन आरोप, ट्वीट में कही ये बात

हिंसा फैलाने वालों पर सख्त हुए सीएम योगी, कहा-मनमानी करने वालों को नही छोड़ेंगे

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -