सूखे को लेकर मोदी-अखिलेश ने दिया बैठक को अंजाम

नई दिल्ली : केंद्र सरकार द्वारा खाली टैंकर उतर प्रदेश भेजे जाने को लेकर मचे घमासान के बीच सूखे पर चर्चा करने के लिए आज उतर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुलाकात हुई है। इसके साथ ही यह भी बता दे कि सूखे से जूझ रहे तीन राज्यों के हालातों पर चर्चा करने के लिए मोदी ने आज मुख्यमंत्रियों की बैठक बुलाई है।

इस दौरान यह देखने को मिला है कि मोदी सबसे पहले अखिलेश यादव से मिले है, इसके बाद महाराष्ट्र और कर्नाटक के सीएम से भी पीएम की मुलाकात होगी। केंद्र ने बुंदेलखंड के सूखाग्रस्त महोबा इलाके में ट्रेन के जरिए पानी ढोने के लिए 10 वॉटर टैंकर्स भेजे लेकिन अखिलेश सरकार ने मदद लेने से इंकार कर दिया।

गौरतलब है कि यूपी में बुंदेलखंड इलाका सूखे से जूझ रहा है। इस बैठक के बारे में जानकारी देते हुए अखिलेश ने बताया है कि उन्होंने प्रधानमन्त्री से उक्त मुद्दे पर बातचीत को अंजाम दिया है. उन्होंने बताया है कि यहा सूखे निपटने के लिए बात की गई और साथ ही केंद्र सरकार से अखिलेश ने 11 हजार करोड़ रकम की भी मांग की है. उन्होंने इसके साथ ही यह भी बतया है कि मोदी ने मदद किये जाने के निर्देश दिए है. उत्तर प्रदेश के बांदा, महोबा, चित्रकूट, ललितपुर और झांसी। मध्यप्रदेश के टीकमगढ़, पन्ना, छतरपुर, दमोह और सागर जिले शामिल हैं। सभी जिलों में पानी की कमी है। कमजोर बारिश और अंधाधुंध खनन से वाटर लेवल गिरा है।

महाराष्ट्र के मराठवाड़ा के 15 हजार गांव सूखे की चपेट में ही। केंद्र के निर्देश के बाद 50 और 10 वॉटर टैंकर वाली दो ट्रेनों को लातूर भेजा जा चुका है। देश के कई हिस्सों में पारा 40-45 के पार पहुंच चुका है। बीते 16 सालों में पानी को लेकर इस साल के हालात सबसे खराब है।

हालात बदतर होने से पहले सरकार वॉटर मैनेजमेंट को लेकर प्लान बनाने की तैयारी में है। सरकार किसानों को ड्रिप इरिगेशन के लिए फंड भी देगी। इसके अलावा ग्राउंड वॉटर का ज्यादा दोहन करने पर जुर्माना लगाया जाएगा।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -