सॉफ्ट हिंदुत्व के रथ पर अखिलेश हुए सवार, क्या यूपी चुनाव में होगा बेड़ा पार ?

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में पांच वर्ष पूर्व बने चुनावी मंजर को समाजवादी पार्टी अब बदलने की कोशिश में लगी हुई हैं। विजय रथयात्रा इसका सबब बनने जा रही है। अब सपा प्रमुख अखिलेश यादव उसकी काट के लिए खुद को नर्म हिन्दुत्व के प्रतिनिधि के रूप में पेश करने की मुहिम को और धार देनी शुरू कर दिया है। 

दरअसल, अखिलेश यादव एक तरफ अपने आप असली केशव (श्रीकृष्ण) के वंशज बता रहे हैं, तो वह उन बातों से परहेज भी कर रहे हैं जिससे भाजपा को उन पर मुस्लिम तुष्टीकरण का इल्जाम लगाने का अवसर मिले। उन्होंने रामंदिर का दर्शन करने की भी बात कही है। सपा के प्रचार गीतों में अखिलेश यादव को कृष्ण बता कर विरोधियों का परास्त करने की बातें कहीं जा रही है। खुद कई अवसरों पर अखिलेश यादव अपने को भगवान विष्णु का भक्त बताते हैं और इटावा के बीहड़ में भगवान विष्णु का मंदिर निर्माण करवाने ने की बात भी कह चुके हैं। 

अयोध्या व मथुरा के सभी संत व साधुओं का वह आशीर्वाद ले रहे हैं। इस वर्ष उन्होंने जगदगुरु शंकरचार्य  स्वामी स्वरूपानंद से हरिद्वार जाकर आशीर्वाद लिया। गत वर्ष अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर की नींव रखी गई थी, उस समय अखिलेश यादव ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि, ‘जय महादेव जय सिया-राम जय राधे-कृष्ण जय हनुमान। भगवान शिव के कल्याण, श्रीराम के अभयत्व व श्रीकृष्ण के उन्मुक्त भाव से सब परिपूर्ण रहें!’ 

महाराष्ट्र में ओवैसी को बड़ा झटका, NCP में शामिल हुए AIMIM के 5 पार्षद

किसान आंदोलन: सिंघु बॉर्डर हत्या मामले पर कांग्रेस ने दिया बड़ा बयान

फिर पलटी मारेंगे सिद्धू, आज कर सकते हैं पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष पद पर बने रहने की घोषणा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -