अखिलेश गुंडे के जाल में फंस गए- मायावती

उत्तर प्रदेश के राज्यसभा चुनाव नतीजों के बाद किसी भी कीमत पर सपा से गठबंधन न टूटने देने के बसपा सुप्रीमो मायावती के बयान के तुरंत बाद अखिलेश यादव ने राजा भैया को धन्यवाद वाले एक ट्वीट को डिलीट कर दिया. साथ ही लगे हाथ राज्यसभा चुनावों में बसपा के समर्थन के लिए मायावती को थैंक्यू भी बोल दिया. लखनऊ में शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस करते हुए मायावती बोलीं कि राज्यसभा चुनाव के नतीजों से सपा-बसपा का गठबंधन जरा सा भी प्रभावित नहीं हुआ है, थोड़ा भी नहीं. उन्होंने इस दौरान उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को सलाह भी दी.

मायावती ने कहा, अखिलेश यादव कुंडा के गुंडे के जाल में फंस गए, अगर ऐसा न होता तो शायद हम यह सीट बचा लेते, मैं उनकी जगह होती तो भले ही मेरा उम्मीदवार हार जाता, मगर उनके उम्मीदवार को हारने नहीं देती. यह उनके अनुभव की कमी है, मगर मैं उनसे अनुभवी हूं इसलिए इस गठबंधन को टूटने नहीं दूंगी. मायावती ने उम्मीद जताई कि अखिलेश यादव धीरे-धीरे सियासत का तजुर्बा सीख जाएंगे.

मायावती ने बीजेपी को आड़े हाथ लिया और कहा कि बसपा-सपा के एक साथ आने से बीजेपी की मुश्किलें बढ़ी हैं. बसपा-सपा गठजोड़ तोड़ने के लिए बीजेपी तमाम तरह की कोशिश कर रही है. मायावती ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए गेस्ट हाउस कांड का भी उल्लेख किया और उस घटना के लिए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को जिम्मेदार नहीं माना. मायावती ने कहा कि बीजेपी 2 जून 1995 के गेस्ट हाउस कांड की याद दिला रही है. यह हत्या करने की साजिश थी. बीजेपी उस घटना में शामिल पुलिसकर्मियों को आज बड़ा ओहदा देकर क्या साबित करना चाहती है? क्या वह मेरी हत्या चाहती है? मायावती के बयान के तुरंत बाद अखिलेश यादव ने राजा भैया को धन्यवाद वाले एक ट्वीट को डिलीट कर दिया.

हार के बाद मायावती ने कहा, बीजेपी मेरी हत्या कराना चाहती है

मुजफ्फरनगर दंगो के 131 केस वापस ले रही है योगी सरकार

अखिलेश और योगी के डिनर पर पहुंचे ये खास मेहमान

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -