एयर फ्रांस के वर्करों ने वाइस प्रेसिडेंट समेत दो अफसरों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

पेरिस: पेरिस में सोमवार को अपने एक एलान के तहत एयर फ्रांस ने अपने तकरीबन 2900 वर्कर्स को हटाने का निर्णय लिया है. और यह प्रक्रिया 2017 तक पूरी हो जाएगी. इस एलान के तुरंत बाद ही वहां पर गुस्साए वर्करों की भीड़ ने पेरिस से सटे कंपनी के हेडक्वार्टर रोइसे चार्ल्स दे गुल्ले इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर सैकड़ों स्टाफ ने एयर फ्रांस की इमारत पर जबरदस्त रूप से हमला कर दिया. इस दौरान इन वर्करों की भीड़ ने वहां पर मौजूद ऑफिस में पहुंचकर मारपीट की तथा उस वक्त ऑफिस में ह्यूमन रिसोर्स (एचआर) के वाइस प्रेसिडेंट जेवियर ब्रोसेटा और फ्लाइट के डिप्टी अफसर पेइरे प्लीसोनेइर भी उपस्थित थे उन्हें भी बुरी तरीके से मारा व पीटा उनके कपड़ों तक को फाड़ दिया गया. 

उन्हें इसी अवस्था में वहां से अपनी जान बचाकर दीवार फांदकर भागना पड़ा. इन उत्पादि वर्करों की यूनियन का कहना है कि कंपनी द्वारा अपने खर्चे कम करने के लिए ही 1700 ग्राउंड स्टाफ और 900 केबिन क्रू मेंबर्स को निकाला जा रहा है. इस पर कंपनी ने अपनी सफाई में दोहराया है की हमारा बिजनेस दस फीसदी तक गिर गया है व इस कारण हमने बोइंग 787 ड्रीमलाइनर एयरक्राफ्ट को खरीदने का ऑर्डर भी समाप्त कर दिया है. एयर फ़्रांस ने कहा है की हमारी लॉन्ग रूट की 14 एयरक्राफ्ट से जुड़े स्टाफ में कमी करने की मंशा है.   

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -