एम्स स्टडी में हुआ खुलासा, डिप्रेशन के कारण रुक सकता है बच्चों का मानसिक विकास

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के एक अध्ययन से पता चला है कि कम से कम 22.5 प्रतिशत बच्चों ने कोविड -19 का एक महत्वपूर्ण भय विकसित किया, जबकि 42.3 प्रतिशत चिड़चिड़ापन और असावधानी से पीड़ित थे।

पहले से मौजूद व्यवहार संबंधी समस्याओं वाले बच्चों में उनके व्यवहार संबंधी लक्षणों के बिगड़ने की उच्च संभावना होती है, 'महामारी, किशोरों और देखभाल करने वालों पर कोविड -19 बच्चों के लिए लॉकडाउन और संगरोध उपायों के मनोवैज्ञानिक और व्यवहारिक प्रभाव' शीर्षक वाले अध्ययन में कहा गया है। अध्ययन में पाया गया कि दो साल से कम उम्र के बच्चे अपने आसपास के बदलावों से अवगत होते हैं और इससे प्रभावित होते हैं। "22,996 बच्चों / किशोरों का वर्णन करने वाले पंद्रह अध्ययनों ने कुल 219 रिकॉर्ड से पात्रता मानदंड को पूरा किया।

अध्ययन में कहा गया है कि कुल मिलाकर 34.5 प्रतिशत, 41.7 प्रतिशत, 42.3 प्रतिशत और 30.8 प्रतिशत बच्चे चिंता, अवसाद, चिड़चिड़ापन और असावधानी से पीड़ित पाये गये। क्रमशः, बच्चों के साथ अलगाव में।" डॉ शेफाली गुलाटी, संकाय एम्स, बाल रोग विभाग, जिन्होंने विश्लेषण का नेतृत्व किया। अध्ययन जो पहले सार्स, इबोला और मध्य पूर्व श्वसन सिंड्रोम के कारण होने वाली महामारी पर किए गए थे, बच्चों और वयस्कों दोनों पर 'प्रतिकूल मनोवैज्ञानिक परिणामों' के उच्च प्रसार के साथ सामने आए।

वफादार चोर: पुलिसवाले के घर चोरी कर छोड़ी चिट्ठी- 'दोस्त की जान बचानी है, पैसे जल्द लौटा दूंगा'

शहनाज गिल के रैप पर जमकर थिरके रणवीर-दीपिका, वायरल हुआ वीडियो

UIDAI ने अनिश्चित काल तक के लिए स्थगित की आधार कार्ड से जुड़ी ये दो सेवाएं, आप भी जानिए

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -