कृषि कानूनों की वापसी के बाद लालू ने अनोखे अंदाज में दी किसानों को बधाई, कहा- बहुमत में अहंकार...

पटना: पीएम नरेंद्र मोदी के शुक्रवार को तीन कृषि कानूनों के वापस लेने के ऐलान के पश्चात् राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने किसानों को बधाई दी है। पूर्व केंद्रीय मंत्री लालू प्रसाद ने 3 कृषि कानूनों की वापसी के ऐलान के पश्चात् दुनिया के सबसे लंबे, शांतिपूर्ण व लोकतांत्रिक किसान सत्याग्रह के कामयाब होने पर बधाई दी। उन्होंने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर लिखा, 'दुनिया के सबसे लंबे, शांतिपूर्ण व लोकतांत्रिक किसान सत्याग्रह के कामयाब होने पर बधाई। पूंजीपरस्त सरकार तथा उसके मंत्रियों ने किसानों को आतंकवादी, खालिस्तानी, आढ़तिए, मुट्ठीभर लोग, देशद्रोही इत्यादि बोलकर देश की एकता तथा सौहार्द को खंड-खंड कर बहुसंख्यक श्रमशील आबादी में एक अविश्वास उत्पन्न किया।' 

उन्होंने आगे अपने अंदाज में लिखा, 'देश संयम, शालीनता तथा सहिष्णुता के साथ-साथ विवेकपूर्ण, लोकतांत्रिक एवं समावेशी फैसलों से चलता है ना कि पहलवानी से। बहुमत में अहंकार नहीं बल्कि विनम्रता होनी चाहिए।' देश संयम, शालीनता तथा सहिष्णुता के साथ-साथ विवेकपूर्ण, लोकतांत्रिक एवं समावेशी फैसलों से चलता है ना कि पहलवानी से! बहुमत में अहंकार नहीं बल्कि विनम्रता होनी चाहिए।

गौरतलब है कि पीएम नरेंद्र मोदी ने प्रकाश पर्व के अवसर पर तीनों कृषि बिल वापस करने की घोषणा की है। प्रधानमंत्री ने कहा कि नेक नीयत से कृषि कानून लाए थे। कुछ किसानों को समझा नहीं पाएं। शायद तपस्या में कोई कमी रह गई थी। पीएम ने देशवासियों से क्षमा मांगते हुए कहा कि अब भी मेहनत में कोई कसर नहीं छोडूंगा। आगे और मेहनत के साथ सरकार काम करती रहेगी। आंदोलनकारी किसान घर लौटें।

'कृषि कानून वापस हुए अब जल्द ही CAA भी रद्द होगा...', PM के फैसले पर बोले ओवैसी

पीएम मोदी पर पी. चिदंबरम का तंज, कहा- "अगर अगला चुनाव हारने का डर है...."

त्रिपुरा निकाय चुनाव से पहले भाजपा कार्यकर्ताओं पर TMC का हमला, 19 घायल

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -