विवाह के बाद बदलना होते हैं कुछ मायने

Jan 09 2015 01:58 PM
विवाह के बाद बदलना होते हैं कुछ मायने
दरअसल शादी के बाद लड़के और लड़कियों की लाईफ ही बदल जाती है। यह एक ऐसा पड़ाव है, जहां से जिंदगी का असली सफर प्रारंभ होता है। विवाह से पूर्व आप अपने हिसाब से जीते हैं, आपकी एक अलग दुनिया है। मगर आपको आपके पार्टनर के साथ रहना हो तो शादी के बाद कपल की लाईफ में कुछ ऐसे बदलाव आते हैं, जिन्हें लेकर आपको कुछ पता हो। भारत में शादी के मामले में 10 चीजें सोचकर करना होती है। शादी के बाद आप बहू बनती हैं, उसी तरह से सास और फैमिली के अन्य लोगों के साथ आपका व्यवहार बदला जाता है। इस व्यवहार में जो भी बदलाव होते हैं, उनके बारे में हमें जानना होगा।

1- विवाह के बाद आपके पार्टनर की उम्मीदें बढ़ने लगती हैं, ऐसे में सबसे पहले जो उम्मीद सामने आती है वो उसकी मां की तरह गुणी और केयरिंग होना है। यही नहीं आपके अंदर भी खाना बनाना, फैमिली का ध्यान रखना और घर को संभालने के गुण होने चाहिए। विवाह के बाद बहू और सास की तुलना होना लाजिमी है। 

 2 पति की साईड लेना - दरअसल विवाह के बाद पति को कई बातें अपनी वाईफ की माननी होती है तो कई बार उसे माॅं की साईड लेना होती है। मगर ऐसा करना काफी मुश्किल हो जाता है। ऐसा करने से दोनों ही रिश्तों पर विपरित असर पड़ता है। इस तरह की सिचुएशंस में अपने माता पिता की मदद की उम्मीद न करें। पिता इस इमोशनल ड्रामे से यदि आप कभी सामना कर सके हैं तो आप शांति से बैठ सकते हैं। 

3 - दरअसल शादी के बाद सास - ससुर नई बहू को समझाने के लिए बेटे का एक तरह से इस्तेमाल करती हैं, जो भी बात बहू तक पहुंचानी हो तो वे अपने बेटे से बोलें उन्हें बुरा न समझें और इसे नकारात्मकरूप में न लें। 

 4 - रूचियों के बारे में न पूछें - दरअसल विवाह के बाद पत्नि को अपनी रूचियों और पैसों के खर्च के बारे में बताऐं, आप अपनी पत्नि को अपने शौक और खर्च के बारे में पूरी प्रेजेंटेशन दे दें, मगर यह समझ लें कि विवाह के बाद आपके धन पर आपकी पत्नि का भी अधिकार है। 

 हर कहीं बंटाए हाथ 

पहले अलग समय था मगर अब समय और है। घर और किचन की जिम्मेदारी बहू को दी जाती थी मगर अब माॅडर्न बहू इस तरह की नहीं है, किचन में बहू के साथ आपको भी समान भागीदारी करनी होगी।