मैगी के बाद अब पास्ता और मैक्रोनी की बारी

नई दिल्ली : एक ओर जहां देशभर में मैगी को प्रतिबंधित कर दिया गया है और इसके विक्रय केंद्रों से सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे गए हैं वहीं दूसरी ओर अब सरकार द्वारा कई तरह के नूडल्स, पास्ता और मैक्रोनी समेत विभिन्न ब्रांड के इस तरह के प्रोडक्ट्स को परीक्षण के लिए भेजा गया है। मामले में भारतीय खाद्य संरक्षा और मानक प्राधिकरण द्वारा इन पदार्थों का प्रयोगशाला में परीक्षण करवाया गया है।मिली जानकारी के अनुसार प्राधिकरण के सीईओ युद्धवीर सिंह मलिक द्वारा कहा गया है कि स्वयं को किसी एक ही ब्रांड तक क्यों सीमित रखा जाए। अन्य ब्रांडो के अतिरिक्त नूडल्स के नमूने एकत्रित किए जाऐंगे।

दूसरी ओर मलिक द्वारा किसी ब्रांड का नाम नहीं लिया जाएगा। आईटीसी का सनफीस्ट येप्पी, हिंदूस्तान यूनिलीवर नोर निसिन फूड्स के टाॅप रामेन के सााि नेपाल के चौधरी ग्रुप का वाई - वाई नूडल बेहद लोकप्रिय है। मलिक द्वारा कहा गया है कि कंपनियों के नाम सार्वजनिक किए जा सकते हैं।नूडल्स, पास्ता और मैक्रोनी के कारोबार के लिए एफएसएसएआई से मंजूरी मिल सकती है।

दूसरी ओर विभिन्न ब्रांडों के नमूनों की जांच की जा सकती है। मामले में कहा गया है कि जिस तरह के उत्पाद बिना मंजूरी के बेचे जा रहे हैं उन्हें निर्माता कंपनियों के विरूद्ध कार्रवाई को लेकर जांचा जा रहा है। मामले में यह भी कहा गया है कि जो ब्रांड एंबेसेडर्स को निर्माण प्रक्रिया की कोई जानकारी नहीं होती है। जिस वजह से वे इस तरह के प्रोडक्ट्स का प्रचार करते हैं। मगर मामले में यह भी कहा गया है कि ब्रांड एंबेसेडर्स पर किसी तरह की कार्रवाई को लेकर विचार नहीं किया जा रहा है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -