अरविंद केजरीवाल दिल्ली चुनाव में धमाकेदार जीत के बाद, हारी हुई आठ सीटों पर करेंगे समीक्षा

अरविंद केजरीवाल दिल्ली चुनाव में धमाकेदार जीत के बाद, हारी हुई आठ सीटों पर करेंगे समीक्षा

नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा चुनाव के परिणाम घोषित हो चुके हैं. इस चुनाव में आम आदमी पार्टी ने जोरदार जीत हासिल की है. वही आप को 70 सीटों में से 62 सीटों पर जीत मिली  है. और बीजेपी के खाते में 8 सीटें आई थी. इस चुनाव में आप को 5 सीटों का नुकसान हुआ है. इस को लेकर ही आप पार्टी ने आठ सीटों पर हार की समीक्षा की है.

जानकारी के अनुसार, इस बैठक में सीएम अरविंद केजरीवाल के साथ पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेता और प्रत्याशी भी सम्मिलित हुए. इस बैठक में हारी हुई एक-एक सीट की समीक्षा की गई. इसके अतिरिक्त हार के कारणों पर विस्तार से बात हुई. इसी के साथ ही प्रत्याशियों से भी हार की कारणों को भी विस्तार से चर्चा की गई. इस बैठक में अरविंद केजरीवाल ने सभी नेताओं को निर्देश दिए कि जिन सीटों पर पार्टी की हार हुई है, वहां पर जनता से लगातार संपर्क बनाया जाए. इसी के साथ केजरीवाल ने बताया कि जनता की समस्याओं और उनके काम का तुरंत समाधान हो. आप संयोजक ने बताया कि जनता से और करीबी संबंध स्थापित किया जाए ताकि पार्टी पर भरोसा कायम हो सके. केजरीवाल के इस प्रस्ताव पर सभी नेताओं ने एक स्वर में सहमति जताई हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, बैठक में सभी नेताओं ने इस बात पर आश्चर्य जताया हैं कि इतना काम करने के पश्चात् भी आम आदमी पार्टी की आठ सीटों पर हार क्यों हुई? जिन सीटों पर बहुत कम अंतर से हार हुई, उन पर विशेष बात हुई. इनमें लक्ष्मी नगर की सीट सबसे महत्वपूर्ण है. चुनाव नतीजों में यहां आप के नितिन त्यागी बीजेपी के अभय वर्मा से महज आठ सौ वोट के अंतर से हार गए थे. वही पार्टी के सभी नेताओं को अरविंद केजरीवाल ने निर्देश दिया कि जनता के बीच सरकार के काम पर लगातार चर्चा हो. जिससे सरकार की योजनाओं से जिन लोगों को फायदा हो रहा, उनसे लगातार संपर्क बनाए रखने को कहा गया हैं. आम आदमी पार्टी ने दिल्ली में लगातार तीसर बार जीत पर अपना नाम कायम किया हैं. अरविंद केजरीवाल आने वाली 16 फरवरी को तीसरी बार मुख्यमंत्री पद के लिए शपथ लेंगे.

SC : लालू यादव के खिलाफ CBI की अर्जी पर आज सुनवाई, क्या मिल पाएगी जमानत

वैलेंटाइन सेलिब्रेट करते होटल के कमरे में लिपटे मिले 10 कपल्स, पुलिस रह गई हैरान

मध्य प्रदेश सरकार पर बरसे ज्योतिरादित्य सिंधिया, इस मांग को लेकर सड़कों पर उतरने की तैयारी