ये है चुड़ैलों का गांव जहां जिन्दा जला दी जाती हैं महिलाएं

ये है चुड़ैलों का गांव जहां जिन्दा जला दी जाती हैं महिलाएं

चुड़ैल या भूतप्रेतों का नाम सुनते ही अच्छे से अच्छे इंसानों की रूह कांप जाती हैं. आमतौर पर छोटे-छोटे गांव में चुड़ैल और भूतप्रेत जैसी घटनाएं सुनने में आती हैं. लेकिन आज हम आपको कुछ ऐसे गांवों के बारे में बता रहे हैं जिसे चुड़ैलों का गांव कहा जाता है. इन गांवों में जाने से ज्यादातर लोग डरते हैं और दुनियाभर में इस सभी गांवों की चर्चाएं हो रहीं हैं.

चुड़ैलों का कोई एक गांव नही बल्कि पूरे 6 गांव हैं. इन गांवों में समाज से बहिष्कृत कर देने वाली महिलाएं रहतीं हैं. इन सभी गांव के बारे में जानना तो हर कोई चाहता है लेकिन यहां जाने से सभी लोग डरते हैं. म्यूनिख फोटोग्राफर ने अपनी फोटोग्राफी के जरिए इस गांव की लाइफ के बारे में सभी को दिखाया है. इस फोटोग्राफर का कहना है कि गांव में रहने वाली सभी औरतें झोपड़ी बनाकर रहतीं हैं और पास के खेतों में काम करके ही अपने खाने का इंतजाम करती हैं.

घाना में लोग काफी ज्यादा अंधविश्वासी है और इसलिए उन्होंने इन सभी महिलाओं को चुड़ैल घोषित कर दिया है. ऐसी सभी महिलाओं को इतना ज्यादा प्रताड़ित किया जाता है कि वो परेशान होकर अपना घर छोड़कर चली जाती है. हैरानी वाली बात तो ये है कि कई बार इन महिलाओं को जिन्दा ही जला दिया जाता है. अब आपके दिमाग में भी ये ही सवाल आ रहा होगा कि आख़िरकार इन महिलाओं को चुड़ैल क्यों घोषित किया गया है? तो चलिए हम आपको इस सवाल का जवाब दें ही देते हैं.

ऐसा कहा जाता हैं कि गांव में यदि किसी को सांप काट लेता है तो ऐसे में कई महिलाओं को चुड़ैल घोषित कर दिया जाता है और उन्हें फिर प्रताड़ित किया जाता है. जिसके बाद ये महिलाएं गांव से भागकर दूसरे गांव चली जाती है और वहां पर गुमनामी की जिंदगी जीती है. आपको जानकर हैरानी होगी कि इन गांव में रहने वाली महिलाओं की संख्या करीब 1500 है.

देख भाई देख...

Raksha Bandhan : वास्तु के अनुसार बांधे अपने भाई को राखी दूर होंगी मुसीबतें

अपने सफर को हसीन बनाने के लिए ऐसे चुने सही सीट

3 साल की बच्ची ने बनाई ऐसी ड्राइंग कि सहम गए सभी

?