निर्मला सीतारमण ने किया निजी क्षेत्र की गतिविधियों को बढ़ाने का आग्रह

निर्मला सीतारमण ने किया निजी क्षेत्र की गतिविधियों को बढ़ाने का आग्रह

फाइनेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण ने एशियाई विकास बैंक से गरीबी में कमी लाने तथा रोजगार सृजन की मंशा से कर्ज तथा प्राइवेट सेक्टर की गतिविधियां बढ़ाने की अपील की है। उन्होंने कोरोना के विरुद्ध जारी अभियान में मदद को लेकर एडीबी की भी प्रशंसा की। वही शुक्रवार को एडीबी के संचालन बोर्ड की 53वीं सालाना बैठक को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से संबोधित करते हुए सीतारमण ने इंस्टीट्यूट को भारत में दक्षिण एशिया उप-क्षेत्रीय आर्थिक मदद सचिवालय तथा प्राइवेट प्लेस में ज्यादा प्रतिबद्धता के साथ परिचालन गतिविधियों के लिए मुंबई में प्राइवेट प्लस परिचालन ब्रांच ऑफिस स्थापित करने के लिए भी आमंत्रित किया। 

साथ ही वर्ल्ड लेवल पर डेवलपमेंट की आवश्यकता तथा गरीबी के समाधान के दृष्टिकोण से उन्होंने कहा कि एडीबी को कर्ज की मात्रा तथा आकार बढ़ाना चाहिए। साथ ही रोजगार सृजन सहित विकास को रफ्तार देने के लिए प्राइवेट सेक्टर की गतिविधियां बढ़ाना वक़्त की आवश्यकता है। आगे सीतारमण ने कहा कि देश में संप्रभु परिचालन से हर साल करीब चार अरब डॉलर प्राप्त करने की क्षमता है तथा प्राइवेट सेक्टर वित्त पोषण व्यवस्था से सालाना करीब 1।5 अरब अमेरिकी डॉलर लेने की क्षमता है। 

साथ ही फाइनेंस मिनिस्टर ने कहा कि एडीबी की देश में गतिविधियां बढ़ रही हैं तथा इसी मुताबिक मध्यम तथा उच्च प्रबंधन तथा कर्मचारियों के लेवल पर इंडियन नागरिकों का प्रतिनिधित्व होना चाहिए। इससे भारतीय चुनौतियों के दृष्टिकोण को शानदार तरीके से रखने में सहायता मिलेगी। सीतारमण ने सुझाव दिया कि एडीबी को कर्ज पहुंच का दायरा बढ़ाने के साथ बढ़ती वैश्विक चुनौतियों के मध्य 'रणनीति 2030' के उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए पूंजी आधार सुदृढ़ करने की दिशा में कार्य करने आवश्यकता है। इसी के साथ कई बदलाव हो सकते है। 

21 सितम्बर से कर सकेंगे ताजमहल और आगरा किले का दीदार, होटलों ने शुरू की तैयारी

डीज़ल की कीमतों में आज फिर हुई कटौती, पेट्रोल के भाव स्थिर

सोने-चांदी की कीमतों में भारी गिरावट, यहाँ जानें आज के भाव