फॉर्च्यून तेल बेचने वाली अडानी समूह की ये कंपनी लाएगी 5 हजार करोड़ का आईपीओ

अडानी समूह की कंपनी अडानी विल्मर 5,000 करोड़ रुपये का शुरूआती सार्वजनिक निर्गम (IPO) लाने की तैयारी कर रही है। खाद्य तेल तथा फूड उत्पादों की यह कंपनी शेयर बाजार में लिस्ट होने वाली अडानी समूह की सातवीं कंपनी होगी। फॉर्च्यून तेल इसका सबसे लोकप्रिय ब्रैंड है। अडानी समूह की कंपनियों के शेयरों ने हाल के सालों में निवेशकों को बेहतरीन रिटर्न दिया है। 

वही इसे देखते हुए यह कयास लगाया जा रहा है कि अडानी विल्मर के आईपीओ को निवेशक हाथोहाथ लेंगे। यह कंपनी अडानी ग्रुप और सिंगापुर की कंपनी विल्मर इंटरनेशनल के बीच की जॉइंट वेंचर है। विल्मर इंटरनेशनल एशिया की प्रमुख एग्री बिजनेस कंपनी है। मिंट की एक खबर के मुताबिक, अडानी विल्मर ने इस आईपीओ के लिए जेपी मॉर्गन तथा कोटक महिंद्रा जैसे इनवेस्टमेंट बैंकर्स के अतिरिक्त कई लीगल एडवाइजर्स की सेवाएं ली हैं। 

खबर के मुताबिक, 'उन्होंने ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस तैयार करने पर काम आरम्भ भी कर दिया है।' कंपनी नए शेयर जारी कर और अपने जेवी भागीदार के भी शेयर बेचकर शेयर बाजार से पैसे जुटाएगी। गौरतलब है कि अडानी विल्मर के पास सोयाबीन, सूरजमुखी, सरसों, राइस ब्रैन जैसे खाद्य तेल उत्पादों का सबसे बड़ा रेंज है। फॉर्च्यून तेल इसका सबसे लोकप्रिय ब्रैंड है। कंपनी के 40 उत्पादन कारखाने हैं जिनका कुल मिलाकर प्रतिदिन की 16,800 टन से अधिक की रिफाइनिंग क्षमता है। इसकी प्रतिदिन 6,000 टन की सीड क्रशिंग क्षमता तथा 12,00 टन की पैकेजिंग क्षमता है। 

पेप्सिको फाउंडेशन ने सुरक्षित पानी के उपयोग के लिए वाटरएड को भारत में USD22 मिलियन देने का किया वादा

Video: चंद मिनटों में साफ हो जाएगी पूरी ट्रेन, पानी भी बचेगा, इंडियन रेलवे ने बनाई अत्याधुनिक मशीन

अडानी ग्रीन एनर्जी ने अपने निर्माणाधीन नवीकरणीय परिसंपत्ति पोर्टफोलियो के लिए जुटाए 1.35 बिलियन डॉलर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -