दहशतगर्दी नहीं है बिगड़े रिश्तों का कारण

लखनऊ : भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने दोनों ही रिश्तों के बीच तनावपूर्ण माहौल को लेकर कहा कि जिस तरह से दहश्तगर्दी हुई वह दोनों देशों के बीच बिगड़ते रिश्तों के लिए जवाबदार नहीं है। इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि यदि पाकिस्तान पर आतंकवाद फैलाने का आरोप लगाया जा रहा है तो यह गलत है। पाकिस्तान ने आतंकवाद को लेकर सबसे अधिक नुकसान का सामना किया है।

उनका कहना था कि वर्ष 1947 के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच चार युद्ध हुए हैं, जबकि दहशतगर्दी तो अभी के दौर में हुई है। दहशतगर्दी दोनों देशों के बिगड़ते रिश्ते के लिए जवाबदार नहीं है। पाकिसतान के उच्चायुक्त ने कहा कि भारत और पाकिस्तान दोनों ही देशों का मानना है कि कश्मीर मसले का समाधान होना आवश्यक है। मगर हर बार वार्ता का कोई हल नहीं निकलता है। जम्मू - कश्मीर के मामले को उन्होंने राजनीतिक बताया है।

हालांकि उन्होंने इस्लाम की व्याख्या करते हुए कहा कि मुल्लावाद को इस्लाम का नाम नहीं दिया जा सकता है। उनका कहना था कि यदि दोनों देश एक दूसरे पर यूं ही आरोप लगाते रहे तो फिर दोनों ही देशों की परेशानियां हल नहीं होंगी। दोनों ही देश एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं इससे उनकी परेशानी तो हल हो नहीं रही है दूसरी ओर दक्षिण एशिया भी प्रभावित हो रहा है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -