आसमा कुचल दिया करते हैं

नाब मत पूछिये हद हमारी गुस्ताखीयों की हमं... 
आईना जमीं पर रखकर आसमा कुचल दिया करते हैं..

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -