जन्माष्टमी पर इस आरती से करें श्री कृष्ण को प्रसन्न

Aug 18 2019 04:06 PM
जन्माष्टमी पर इस आरती से करें श्री कृष्ण को प्रसन्न

नई दिल्ली: इस वर्ष श्री कृष्ण जन्माष्टमी 24 अगस्त को मनाई जाएगी। इस दिन भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था। इसीलिए इस दिन श्री कृष्ण को बाल रूप में झूले में झुलाया जाता है और उन्हें भोग लगाया जाता है। ऐसे में हम आपको बताते हैं कि श्री कृष्ण को भोग लगाने के पहले कौनसी आरती की जाती है। हम आपके लिए लाए हैं श्री कृष्ण की आरती:-


आरती कुंजबिहारी की,

श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की

 

गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।

श्रवण में कुण्डल झलकाला, नंद के आनंद नंदलाला।

गगन सम अंग कांति काली, राधिका चमक रही आली।

लतन में ठाढ़े बनमाली;

भ्रमर सी अलक, कस्तूरी तिलक, चंद्र सी झलक;

ललित छवि श्यामा प्यारी की॥

श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की

श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥

 

 

कनकमय मोर मुकुट बिलसै, देवता दरसन को तरसैं।

गगन सों सुमन रासि बरसै;

बजे मुरचंग, मधुर मिरदंग, ग्वालिन संग;

अतुल रति गोप कुमारी की॥

श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की

श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥

 

 

जहां ते प्रकट भई गंगा, कलुष कलि हारिणि श्रीगंगा।

स्मरन ते होत मोह भंगा;

बसी सिव सीस, जटा के बीच, हरै अघ कीच;

चरन छवि श्रीबनवारी की॥

श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की

श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥

 

 

चमकती उज्ज्वल तट रेनू, बज रही वृंदावन बेनू।

चहुं दिसि गोपि ग्वाल धेनू;

हंसत मृदु मंद,चांदनी चंद, कटत भव फंद;

टेर सुन दीन भिखारी की॥

श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की

श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥

 

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आस्था पर उठे सवाल की माधवन ने की बोलती बंद, पोस्ट से दिया ट्रोलर्स को जवाब

जैन धर्म में अलग है रक्षाबंधन का महत्व, जानें कथा

जयपुर : सांप्रदायिक बवाल से मचा हड़कंप, कई इलाकों में धारा 144 लागू