नोटबन्दी को निकाय चुनावों में भुनाएगी आम आदमी पार्टी

नई दिल्ली : नोटबन्दी का शुरू से विरोध कर रही आम आदमी पार्टी ने अब इसे अगले साल के आरंभ में होने वाले निकाय चुनाव मे भुनाने का फैसला किया है. इसके लिए पार्टी ने पूरी कार्य योजना भी बना ली है. आम आदमी पार्टी नगर निगम के चुनावों में जनता के बीच यह मसला ले जाकर यह बताएगी कि केंद्र सरकार का नोटबंदी का फैसला पूरी तरह जनता के खिलाफ था.

आपको बता दें कि आम आदमी पार्टी ने सभी 272 वार्डों में प्रॉजेक्टर के माध्यम से नोटबंदी के दुष्प्रभावों को दिखाना शुरू भी कर दिया है. इसके साथ वाराणसी की रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर केजरीवाल द्वारा बोले गए हमले की क्लिपें भी दिखाई जा रही है.स्मरण रहे कि इस क्लिप में केजरीवाल यह आरोप लगाते दिख रहे हैं कि मुख्यमंत्री रहते हुए मोदी ने कुछ कॉरपोरेट घरानों से रुपये लिए.

सूत्रों के अनुसार इस प्रचार में प्रॉजेक्टर के जरिए केजरीवाल के भाषण के अंश व आम आदमी पार्टी के दिल्ली चीफ दिलीप पांडेय का गाया ऐंथम भी देखने को मिलेगा. इसके अलावा 'आप' पार्टी उस पत्र को भी जनता के बीच पर्चे के रूप में बांटेगी, जो केजरीवाल ने नोटबंदी के बाद प्रधानमंत्री मोदी को लिखा था. 'आप' का ऐसे 200-225 शो हर दिन करने की योजना है. इस बहाने वह हर दिन करीब 20 हजार लोगों तक पहुंचने की कोशिश करेगी. यह काम पार्टी के कार्यकर्ताओं को दिया गया है. ऐसे शो मे जनता से नोटबंदी से जुड़े तीन सवाल भी पूछें जाएंगे. ये सवाल हैं क्या मोदी ने रिश्वत ली? क्या नोटबंदी से मोदी ने अपने अमीर दोस्तों को मदद पहुंचाई? और क्या नोटबंदी एक घोटाला है?

भगवंत मान को करे सस्पेंड

दिल्ली में सीएम केजरीवाल का विरोध

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -