विधायक अलका लांबा को AAP प्रवक्ता के पद से हटाया

नई दिल्ली : दिल्ली के चांदनी चैक से आम आदमी पार्टी की विधायक अलका लांबा की मुश्किलें बढ़ गई हें। इस दौरान उन्हें पार्टी प्रवक्ता के पद से हटा दिया गया है। दरअसल इसका कारण संसदीय सचिव पद के विवाद के ही साथ राज्य के परिवहन मंत्री गोपाल राय के बारे में दिए गए बयान के चलते कार्रवाई हुई। अलका लांबा ने आम आदमी पार्टी की लाईन से हटकर बयानबाजी की थी। उनका कहना था कि प्रीमियम घोटाले में कई तरह के आरोप लगने पर मंत्री गोपाल राय ने इस्तीफा दे दिया है।

जबकि आम आदमी पार्टी और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि सेहत के चलते गोपाल राय ने परिवहन विभाग को छोड़ दिया है। अलका लांबा के बयान को लेकर इस तरह का संदेश मिला कि घोटाले के आरोप के चलते गोपाल राय को पद छोड़ना पड़ा। अलका लांबा ने अपना बयान उस समय दिया जब गोपाल राय घोटाले के मसले पर एसीबी के सामने पूछताछ के लिए प्रस्तुत हुए थे।

दरअसल गोपाल राय को लेकर जो विवाद गहराया वह ऐप बेस्ड प्रीमियम बस सर्विस योजना को लेकर गहराया। हालांकि मंत्री गोपाल राय का कहनना था कि उन्हें चिकित्सकीय उपचार के दौरान आराम की सलाह दी गई है। वे बीमार होने के कारण मंत्रालय के कार्य को संभाल नहीं पा रहे थे जिसके कारण उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। अब परिवहन विभाग का कार्य लोक निर्माण विभाग के मंत्री सत्येंद्र जैन को सौंप दिया गया है।

दरअल अलका लांबा चांदनी चैक से विधायक हैं। पार्टी द्वारा उन्हें प्रवक्ता के पद की जवाबदारी सौंपी गई थी। अलका लांबा पहले ही कांग्रेस में रह चुकी हैं, और दिल्ली यूनिवर्सिटी की छात्र संघ अध्यक्ष रही हैं। सीएम केजरीवाल वाराणसी से लोकसभा चुनाव लड़ने गए थे, तब अलका लांबा ने उनके प्रचार की जवाबदारी संभल रखी थी।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -