AAP मंत्री ने कांग्रेस के आरोपों को नकारा

Feb 10 2016 10:56 AM
AAP मंत्री ने कांग्रेस के आरोपों को नकारा

नई दिल्ली : कांग्रेस द्वारा दिल्ली राज्य के खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री इमरान हुसैन पर रिश्वत लेने का आरोप लगाया गया है। दरअसल इमरान हुसैन के इस्तीफे की मांग की गई है। स्टिंग आॅपरेशन में कथित तौर पर खुलासा किया गया है कि उत्तरी दिल्ली के बल्लीमारन क्षेत्र में अवैध निर्माण को नियमित करने हेतु व्यक्ति ने मंत्री की ओर से 30 लाख रूपए की रिश्वत हासिल की थी। आम आदमी पार्टी के नेता हुसैन द्वारा अपने उपर लगाए गए आरोपों को निराधार बताया है।

मिली जानकारी के अनुसार दिल्ली कांग्रेस के प्रमुख अजय माकन ने वीडियो जारी करते हुए कहा कि कासिम नामक एक व्यक्ति पैसे मांग रहा है। अजय माकन ने इस व्यक्ति के पैसे लेने पर आपत्तियां ली हैं। हुसैन के कार्यालय में एक कर्मचारी शामिल है जो कहा रहा है कि विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के टिकट लेने हेतु पैसे देने पड़े। इस तरह के आरोपों से घिरे मंत्री को लेकर कांग्रेस द्वारा आॅडियो क्लिप्स भी जारी की गई हैं। 

कासिम के मंत्री के भाई और नगर निगम के अभियंता से चर्चा की गई है। आॅडियो क्लिप में मंत्री के भाई मकान मालिक से यह पूछते हुए सुने गए कि उनका सामान कब पहुंचेगा। एक जूनियर इंजीनियर से मंत्री को तय राशि देने के लिए कहा गया है। विधानसभा में बल्लीमारन का प्रतिनिधित्व करने वाले हुसैन ने आरोप लगाया और इस बात को आधारहीन बताया।

उन्होंने इन सभी बातों से इन्कार किया। उनका कहना था कि मेरा स्टिंग आॅपरेशन से कोई लेना - देना नहीं है। इस तरह के आरोप गलत हैं। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अजय माकन आरोपों को साबित कर के दिखाऐं। यदि ऐसा होता है तो वे राजनीति छोड़ने तक के लिए तैयार हैं। यदि वे सफल नहीं होते हैं तो फिर राजनीति छोड़ना ही उचित है।

भारतीय जनता पार्टी द्वारा स्टिंग आॅपरेशन के बाद खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री इमरान हुसैन के कार्यालय के विरूद्ध कथित तौर पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा था। इन आरोपों के बाद दिल्ली के सीएम से इस्तीफे की मांग की गई है। दिल्ली भाजपा इकाई के अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने कहा है कि आॅडियो और वीडियो वाले स्टिंग ने उनके द्वारा जारी किए गए भ्रष्टाचार को सामने लाकर रख दिया है। विधानसभा में इस बात पर हंगामा हुआ। ऐसे में नेता विपक्ष विजेंद्र गुप्ता ने मंत्री हुसैन को निलंबित करने की मांग की।