आंसू बनकर टपक गए

ो दाग जिगर पर उभरे थे वो आंसू बनकर टपक गए 
यूं भीगी पलकों ने एक-एक अहसान उतारा उनका

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -