एक बार कोरोना की वैक्सीन लगाने से ख़त्म नहीं होगी बीमारी, अगले 20 सालों तक होगी दवा की जरुरत

Oct 23 2020 01:38 PM
एक बार कोरोना की वैक्सीन लगाने से ख़त्म नहीं होगी बीमारी, अगले 20 सालों तक होगी दवा की जरुरत

नई दिल्ली: कोरोना महामारी का संकट केवल एक बार टीकाकरण कार्य़क्रम चलाने से समाप्त नहीं होगा। कोरोना की वैक्सीन बनाने में जुटे सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंड़िया के CEO अदार पूनावाला का कहना है कि अगले 20 सालों तक के लिए कोरोना वायरस की दवा की आवश्यकता होगी। उन्होंने कहा कि यह समय कड़वी हकीकत को स्वीकार करने का है।

मीडिया से बात करते हुए पूनावाला ने कहा है कि इतिहास में एक भी ऐसा उदाहरण नहीं है, जब किसी वैक्सीन को बंद किया गया हो। उन्होंने कहा कि निरंतर कई वर्षों से फ्लू, निमोनिया, खसरा और पोलियो तक दवाएं चली आ रही हैं। इनमें से किसी को भी आज तक बंद नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि कोरोना वैक्सीन के साथ भी ऐसा ही है। पूनावाला ने कहा कि अगर कोरोना वैक्सीन का 100 फीसद लेवल हासिल कर लिया जाता है, तब भी भविष्य में इसकी आवश्यकता पड़ती रहेगी। उन्होंने कहा कि वैक्सीन असली समाधान नहीं है। यह आपकी इम्युनिटी को बूस्ट करती है और आपकी रक्षा करती है। इससे बीमारी का जोखिम कम हो जाता है, किन्तु आप इससे 100 फीसदी नहीं बच सकते।

अब अगर हम बात करें कि हम आबादी के एक हिस्से तक वैक्सीन देंगे तो यह पर्याप्त नहीं होगा। यहां तक कि 100 फीसदी टीकाकरण के बाद भी भविष्य में इस दवा की आवश्यकता रहेगी। खसरा की वैक्सीन का उदाहरण देते हुए पूनावाला ने कहा कि यह 95 फीसदी कारगर है और सबसे कारगर दवाओं में से एक है। किन्तु इसके बाद भी नवजात शिशुओं को यह दवा दी जाती है।

रुबीना की मां ने की हिना खान की प्रशंसा, इस वजह से किया शुक्रिया

आमिर खान पर भड़कीं कंगना, कहा- 'मुझे भी जेल भेजने की पूरी कोशिश...'

HP उच्च न्यायालय ने जूनियर स्टेनोग्राफर के पदों पर निकाली वेकेंसी, जल्द करें आवेदन