नहीं थम रही कोरोना की मार, मरने वालो की संख्या 30000 पार

नहीं थम रही कोरोना की मार, मरने वालो की संख्या 30000 पार

बीजिंग: पूरी दुनिया को अपना शिकार बना चुका कोरोना अब भी थमने का नाम नहीं ले रहा है. हर दिन इस वायरस का कहर और भी बढ़ता ही जा रहा है. वहीं अब तक इस वायरस से मरने वालों की संख्या 30000 से अधिक हो चुकी है. जंहा अब भी लाखों की तादाद पर लोग इस बीमारी से संक्रमित है. दुनियाभर में इस जानलेवा वायरस से 6,64,000 से ज्‍यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं. वहीं अकेले स्‍पेन में ही बीते 24 घंटे में रिकॉर्ड 838 लोगों की कोरोना वायरस से मौत हो गई. इटली में हालात तो और भी ज्‍यादा खराब हो गए हैं. इटली में कल यानी शनिवार को एक ही दिन में 889 लोगों की मौत कोरोना वायरस से हो गई थी. इटली में मौतों का आंकड़ा 10,000 को पार कर गया है. वहीं अमेरिका में संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा 2000 को पार कर गया है. 

यूरोपीय यूनियन से मांगी मदद: मिली जानकारी के अनुसार कोरोना वायरस महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित स्पेन और इटली ने यूरोपीय यूनियन (ईयू) से मदद मांगी है. इटली के प्रधानमंत्री ग्यूसेप कोंते ने शनिवार देर शाम कहा कि यूरोप को शेष दुनिया को यह बताना होगा कि वह इस खराब समय का मुकाबला करने में सक्षम है. स्पेन के प्रधानमंत्री पेड्रो सांचेज ने भी यूरोपीय यूनियन के 27 देशों से मदद का आह्वान किया है. बता दें कि स्पेन, इटली, फ्रांस सहित ईयू के छह अन्य देशों ने ईयू से कोरोना बांड जारी करने को कहा है. यह भी एक तरह का कर्ज होगा, जिसे बाजार में बेचकर महामारी से लड़ रहे देश पैसा पा सकेंगे. हालांकि इन देशों के इस विचार से जर्मन और नीदरलैंड जैसे देश सहमत नहीं हैं.

स्‍पेन में संक्रमितों की संख्‍या में भारी उछाल: वहीं इस बात का पता चला है कि स्पेन में रविवार को बीते 24 घंटों में रिकॉर्ड 838 लोगों की संक्रमण से मौत हो गई. इसके साथ ही स्‍पेन में कोरोना से मरने वालों की संख्‍या बढ़कर 6,528 हो गई है. स्‍पेन के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि मुल्‍क में अब तक 78,797 लोगों के कोरोना से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है. यही नहीं देश में बीते 24 घंटे के भीतर संक्रमितों की संख्या में 9.1 फीसद की भारी बढ़ोतरी भी दर्ज हुई है. कोरोना से इटली के बाद स्पेन दूसरा मुल्‍क है जहां सबसे ज्‍यादा मौतें हुई हैं. उधर, महामारी से निपटने में जरूरी सामानों की कमी भी आड़े आ रही है. मिलान, मैड्रिड और मिशिगन जैसी जगहों पर डॉक्टरों को वेंटीलेटर की कमी से जूझना पड़ रहा है.

कोरोना के खौफ में कैदी हुए उग्र, न्याय मंत्रालय ने किया बड़ा खुलासा

ब्लड प्लाज्मा की मदद से 'कोरोना' को मात दे पाएगा अमेरिका

कोरोना वायरस : दक्षिण अफ्रीका में भारतीय मूल के लोगों ने ऐसे की मदद