पंजाब : इस व्यक्ति ने कोरोना से जीती जंग, दूसरे दिन अस्पताल में हुई मौत

पठानकोट का जयपाल कोरोना से मुक्त होने के बाद टीबी रोग के चलते जिंदगी की जंग हार गया। बता दे कि 35 वर्षीय ऑटो ड्राइवर ने 40 दिन कोरोना से लड़ाई लड़ी और मंगलवार शाम को उसकी दूसरे फेज की रिपोर्ट निगेटिव आई और अगले ही दिन जयपाल ने अमृतसर के जीएनडीएच अस्पताल में आखिरी सांस ली.

नेपाल में बेकाबू हुए हालात, यहां पर लगाया गया कोरोना कर्फ्यू

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि सोमवार को उसके गांव मामून में प्रशासनिक देखरेख में अंतिम संस्कार किया गया। वहीं, परिवार ने जयपाल की मौत को जीएनडीएच अमृतसर और पठानकोट स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की लापरवाही बताया है। परिवार का कहना है कि जयपाल संक्रमित नहीं था। वह टीबी का मरीज था। लेकिन प्रशासन ने उसे कोरोना संक्रमित बताया और अमृतसर में इलाज के अभाव में उसकी मौत हो गई.

गंभीर हादसा: महाराष्ट्र के बाद बिहार में हादसे का शिकार हुए मजदूर, ट्रक और बस की टक्कर में गवाई जान

अगर आपको नही पता तो बता दे कि जयपाल पहले से टीबी का मरीज था और 4 महीने से किसी निजी अस्पताल में इलाज करवा रहा था। छाती में इंफेक्शन के कारण सांस लेने में दिक्कत हुई तो सिविल अस्पताल लाया गया। जहां उसका सैंपल लिया और 40 दिन पहले रिपोर्ट पॉजिटिव आई। जिसके बाद उसे पठानकोट सिविल अस्पताल में भर्ती किया गया। लेकिन हालत बिगड़ने पर अमृतसर के श्री गुरु नानक देव जी अस्पताल रेफर कर दिया गया। जहां उसका इलाज चला और 15 मई को उसका पहले फेज का सैंपल लिया। जिसकी रिपोर्ट निगेटिव आने पर दूसरा सैंपल लिया.

जल्द ही हिमाचल के 3 और कॉलेजों में शुरू होगा कोरोना का टेस्ट

हरियाणा में कोरोना ने पकड़ी तेजी, फिर मिले 18 पॉजिटिव

जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, एक जवान घायल

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -