क्यों फेल हुआ हनीप्रीत का बेबी प्लान

नई दिल्ली : राम रहीम और हनीप्रीत के संबंधों को लेकर रोज़ नए मामले सामने आ रहे हैं. हर रोज़ एक नई बात पर से रहस्य का पर्दा उठ रहा है. अब डेरे के पूर्व सेवादार गुरदास सिंह तूर ने खुलासा किया है, कि राम रहीम अपनी कथित बेटी हनीप्रीत से एक बच्‍चा चाहता था, जिसे आगे जाकर वो डेरे का उत्तराधिकारी बना सके.

गौरतलब है कि राम रहीम और उसकी कथित बेटी हनीप्रीत के संबंधों को लेकर पहले ही संदेह जताया जा रहा था. लेकिन अब डेरे के पूर्व सेवादार गुरदास सिंह तूर ने ऐसा राज खोला है कि जिसे सुनकर उसके अनुयायी भी हैरान रह जाएंगे. गुरदास सिंह तूर ने बताया कि राम रहीम अपनी कथित बेटी हनीप्रीत से एक संतान चाहता था, जिसे आगे चलकर वो उसे डेरे का उत्तराधिकारी बना सके. गुरदास के अनुसार यह आइडिया खुद हनीप्रीत का ही था, क्‍योंकि वो डेरे का इतना बड़ा साम्राज्‍य उसके बेटे जसमीत सिंह इंसां को मिले.

बता दें कि हनीप्रीत यह चाहती थी कि राम रहीम और उसका कोई बेटा हो और वही डेरे का मुखिया बने. राम रहीम भी इस बात के लिए सहमत था. वो चाहता था कि बेटा उसी से पैदा हो, लेकिन दुनिया की नजरों में उसका बाप विश्‍वास गुप्‍ता ही बना रहे. विश्‍वास गुप्‍ता हनीप्रीत का पूर्व पति है. गुरदास सिंह ने कहा कि हनीप्रीत और राम रहीम की योजना यह थी कि जो बेटा होगा वो उसे 'खुदा का बेबी' कहकर भक्‍तों के बीच पेश करेंगे, ताकि बड़ा होने पर उसके उत्तराधिकारी बनने में कोई दिक्कत न आए. लेकिन बीच में ही विश्वास गुप्ता ने हनीप्रीत से तलाक लेकर बाबा और हनीप्रीत के बेबी प्लान को फेल कर दिया.

यह भी देखें 

किसी के हाँथ ना आएगी हनीप्रीत...

दामाद ने गुरमीत राम रहीम पर दत्तक पुत्री से अवैध संबंध होने का आरोप लगाया

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -