देश में आएगी सोने-चांदी से बनी है विश्व की सबसे बड़ी श्रीमदभगवद् गीता, 800 किलो है वजन

कुरुक्षेत्र: पवित्र ग्रंथ श्रीमदभगवद् गीता को लेकर कई रिकॉर्ड दुनिया भर में बने हैं। जानकारी के अनुसार बता दें कि अब इस्कॉन संस्था ने विश्व की सबसे बड़ी गीता तैयार की है। यहां बता दें कि 800 किलोग्राम की इस पुस्तक की छपाई में करीब ढाई साल लगे है। वहीं 20 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली के इस्कॉन मंदिर में इसका लोकार्पण करेंगे।

किसी भी समस्या पर पीएम मोदी से बातचीत करने को तैयार हुए पाक पीएम

यहा बता दें कि इटली के मिलान शहर में डेढ़ करोड़ की लागत से बनी यह पुस्तक अगले हफ्ते समुद्री रास्ते से भारत लाई जाएगी। वहीं दुनिया की सबसे बड़ी और वजनी यह गीता फिलहाल दिल्ली में ही रहेगी। इसके साथ ही 2020 के बाद इसे कुरुक्षेत्र में बन रहे श्रीकृष्ण-अर्जुन मंदिर में स्थापित किया जा सकता है, तब तक इसे दिल्ली इस्कॉन मंदिर में ही देखा जा सकेगा।

उत्तर प्रदेश में शराब के ठेके पर बदमाशों ने की पुलिस पर फायरिंग, एक हेड कांस्टेबल घायल

गौरतलब है कि इस्कॉन के संस्थापक स्वामी प्रभुपाद की ओर से गीता प्रचार के 50 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में यह पुस्तक प्रकाशित कराई गई है। बता दें कि संस्था से जुड़े वेदांत बुक ट्रस्ट ने छपाई की है। इस पर खर्च इस्कॉन के हर सेंटर से एकत्रित किया गया था। 11 नवंबर को इसे मिलान में प्रदर्शित किया गया था। यहां हम आपको बता दें कि इस गीता में 670 पृष्ठ हैं, जिनका साइज 2.84 गुणा 2.0 मीटर है। इन्हें पलटने के लिए तीन से चार व्यक्तियों की जरूरत पड़ती है। यह सिथेटिक के मजबूत कागज से तैयार की गई है। माना जा रहा है कि इन पर कई प्रकार की धातु लगाई गई है, जिनमें प्लेटिनम, सोना और चांदी मुख्य हैं।


खबरें और भी 

किसान आंदोलन: राम लीला मैदान में इकठ्ठा हुए अन्नदाता, सरकार से की विशेष सत्र बुलाने की मांग

खालिस्तानी आतंकी के साथ फोटो खिंचवाकर चौतरफा घिरे सिद्धू, हरसिमरत कौर ने बताया पाकिस्तान का एजेंट

हनुमानजी की जाति को लेकर सियासत में भूचाल, अब अनुसूचित जनजाति आयोग ने ठोंका अपना दावा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -