क्या आप जानते है कैसा हुआ था महिलाओं की ब्रा का निर्माण ?

दुनिया में आज जो भी चीज है सभी के पीछे कुछ न कुछ इतिहास छुपा हुआ होता है हर छोटी सी छोटी चीज का कोई न कोई इतिहास होता है जिसकी वजह से उसका निर्माण होता है। तो क्या आप जानते हैं कि महिलाओं में ब्रा पहनने कि जो आदत है वह कहां से आई या फिर उस ब्रा का इतिहास क्या हो सकता है। इस ब्रा का निर्माण किसने किया होगा और कब किया होगा। ऐसे ही कई सवाल होंगे आपके भी मन में ब्रा के इतिहास के लिए।

तो आज हम आपसे महिला के इस खास कपड़े के इतिहस के बारे में बात करने जा रहे है। 17वी और 18वीं शताब्दी के समय ब्रा की जगह पर सफेद अंडरगारमेंट का चलन शुरू हुआ था। और यह एक कमीज की तरह दिखती थी। और फिर महिलाए 1885 के दशक में कोर्सेट पहना करती थी। जो एक प्रकार की जैकेट के समान हुआ करता था।कोर्सेट की अगर बात करें तो इसके पीछे डोरियां हुआ करती थी। जिसे काफी टाइट रखा जाता था। 

इस ब्रा को पहनने से इतना नुकसान होता था क्योंकि इसके कसे होने के कारण जी घबराना, पेट में गड़बड़ी, सांस फूलने जैसी परेशानी होती थी। तो फिर इस कपड़े को बंद करते हुए 1889 में आधुनिक ब्रा का अविष्कार हुआ था। फ्रांस की हरमिनी काडोले ने टू पीस अंडरगार्मेंट्स बनाया था। जिसे कोर्सेलेट जॉर्ज नाम दिया गया। यह ब्रा महिला को काफी पसन्द आने लगी क्योंकि यह पहनने में काफी आसान तो ती ही साथ ही इसमें महिला काफी अच्छा फील करती थी।

पीले रंग के कपड़े पहनकर दिखने लगेंगी...

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -