यदि आपके घर है लकड़ी का फर्नीचर तो बदल दें उसकी दिशा, अन्यथा

सभी व्यक्ति को अपने घर के लिए बहुत सी चीजो की आवश्यकता होती है और कई चीजें तो ऐसी होती है जिनका हमारे घर में होना अति आवश्यक है इन चीजों के बिना हमारा घर अधूरा लगता है ऐसी ही एक जरूरी चीज है फर्नीचर जो हमारे घर के लिए बहुत आवश्यक है. लेकिन क्या आप जानते है की घर का फर्नीचर यदि वास्तु के अनुसार न हो तो ये भी आपके लिए हानिकारक हो सकता है. और इसी के चलते आज हम वास्तु के मुताबिक़ घर से जुड़े फर्नीचर के बारे में बात करेंगे.

दोस्तों फर्नीचर की बात करें तो, कोई भी फर्नीचर हल्का या भारी हो सकता है वास्तु के अनुसार अपने घर के भारी फर्नीचर को हमेशा दक्षिण पूर्व दिशा में ही रखे तथा हल्के फर्नीचर को उत्तर पश्चिम दिशा में रखना चाहिए. इससे आपके घर में धन लाभ की स्तिथि बनती है.

यदि आप अपने घर के लिए नया फर्नीचर खरीदने या बनवाने की सोच रहे है तो इसके लिए सोमवार, बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार का दिन शुभ होता है यदि इन दिनों में अमावस्या आती है तो उस दिन फर्नीचर नहीं खरीदना चाहिए.

फर्नीचर खरीदने या बनवाने के पूर्व इस बात की पुष्टि अवश्य कर लें की फर्नीचर किस लकड़ी का बना है फर्नीचर यदि इमली,पीपल,तेंदू की लकड़ी का बना है तो यह अशुभ फल देता है.सागौन, शीशम, साल की लकड़ी अधिक उपयुक्त होती है.

यदि आप अपने घर में किसी तरह का काम जो लकड़ी से सम्बंधित है करवाते है तो इस कार्य को दक्षिण पूर्व दिशा से प्रारम्भ कर उत्तर पश्चिम में समाप्त करना शुभ होता है. इससे आपके परिवार के व्यक्तियों की उन्नति के रास्ते खुल जाते है.

यदि आप अपना फर्नीचर घर पर ही बनवाना चाहते है तो याद रखिये की फर्नीचर के सभी छोर गोल आकार के होना चाहिए तथा उन फर्नीचर में हल्के रंगों का प्रयोग कराना चाहिए इस प्रकार के फर्नीचर घर में सुख शांति लाते है.

इन्होने दिया था अपने भक्तो को, तंत्र विद्या का वरदान

ऐसे व्यक्तियों के साथ, रहता है दुर्भाग्य

इस दिन करें बजरंगबलि की पूजा, मिट जायेंगे सारे संकट

यदि आपके घरो में है कोई आत्मा तो मिलते है कुछ ऐसे संकेत

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -