दलितों को मिले 85% आरक्षण- बहुजन आजाद पार्टी

पटना: बिहार के पूर्व आईआईटी छात्रों ने एक राजनीतिक दल बनाया है, जिसे नाम दिया है बहुजन आजाद पार्टी. इस पार्टी के द्वारा वे पिछड़ी जाति, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति को उनका हक दिलाना चाहते हैं. पार्टी बनाने के बाद अब पार्टी के सदस्यों ने दलितों को मिल रहे आरक्षण को बढ़ने की मांग भी कर दी है.

उन्होंने मांग की है कि दलितों को मिल रहे 49% आरक्षण की सीमा को बढ़ाकर 85% करना चाहिए. एक न्यूज़ चैनल से बातचीत करते हुए पार्टी के सदस्यों ने बताया कि देश में आबादी के हिसाब से आरक्षण मिलना चाहिए, पार्टी के एक सदस्य विक्रांत ने कहा है कि इस देश में 85 फीसदी पिछड़ी जाति, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लोग हैं, मगर इसके बावजूद भी 15% सवर्ण जाति के लिए समाज में ज्यादा विकल्प है.

पूर्व आईआईटी छात्रों का कहना है कि दलितों के लिए न्यायपालिका हो, सरकारी नौकरी में प्रमोशन या फिर निजी क्षेत्र में नौकरी, हर जगह आरक्षण होना चाहिए ताकि एक अरसे से शोषित होते आ रहे दलित समाज का उत्थान किया जा सके. पार्टी के सदस्यों ने 2020 में बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव में भी उतरने का ऐलान किया है. उन्होंने कहा है कि 2020 चुनाव में पार्टी हर सीट के लिए उम्मीदवार खड़ी करेगी.  

एक और बीजेपी सांसद सरकार के खिलाफ

'भारत बंद' के चलते सरकार सतर्क

म.प्र.चुनाव: क्या कमलनाथ उतरेंगे शिवराज के खिलाफ ?

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -