सुर्खियां: ये है देश और दुनिया की आज की सबसे बड़ी ख़बरें

Sep 12 2018 02:44 PM
सुर्खियां: ये है देश और दुनिया की आज की सबसे बड़ी ख़बरें

भीमा-कोरेगांव हिंसा: सुप्रीम कोर्ट में फिर टली सुनवाई , तब तक के लिए सुनाया यह फैसला

नई दिल्ली। पिछले कुछ दिनों से देश में सुर्ख़ियों में चल रहे भीमा-कोरेगांव हिंसा मामले की सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज फिर टल गई है। अब इस मामले की अगली सुनवाई 17 सितंबर को की जायेगी। तब तक के लिए देश की सर्वोत्तम अदालत  सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में  गिरफ्तार किए गए 5 कार्यकर्ताओं  की घर में ही नजरबंदी की अवधि को अब 17 सितंबर यानी अगले  बुधवार  तक के लिए बढ़ा दी है। 


अफगानिस्तान में एक और आत्मघाती हमला, 19 लोगों की मौत

काबुल। पिछले कई सालों से आतंकवाद और आत्मघाती हमलो से जूझ रहे अफगानिस्तान में हाल ही में एक और बड़ा आत्मघाती हमला हुआ है। इस हमले में अब तक 19 लोगों की मौत हो चुकी है। 

 

भिंडः थाने में अपराधियों के हमले का शिकार हुए पुलिसकर्मियों में से एक की मौत

भोपाल। मध्य प्रदेश के भिंड में पुलिस थाने के अंदर ही अपराधियों द्वारा धारधार हथियार से किये गए हमले का शिकार हुए दो पुलिसकर्मियों में एक ने आज दिल्ली में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया है। इस पुलिसकर्मी को अत्यधिक घायल होने की वजह से बेहतर इलाज के लिए दिल्ली रेफर किया गया था। 


खतरे की घंटी : दो दिन में देश के पांच बड़े राज्यों में भूकंप के झटके

नई दिल्ली। कुछ समय पहले केरल तमिलनाडु समेत देश के अन्य कई राज्यों में भारी बारिश और भीषण बाढ़ ने भयंकर तबाही की थी। अब इन घटनाओं का असर कुछ कम हुआ ही था कि एक और बड़ी प्राकृतिक आपदा देश के लिए खतरा बन कर सामने आई है। देश के लिए चुनौती बन रही यह नयी आपदा भूकंप की आपदा है। पिछले दो दिनों में ही देश के  पांच बड़े राज्यों में भूकंप छोटे-बड़े कई झटके महसूस किये गए है। 

 

सूत्रों का खुलासा, अगस्त में चीन ने तीन बार की भारत में घुसपैठ

नई दिल्ली:  चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने उत्तराखंड राज्य में पिछले महीने कम से कम तीन बार वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) का उल्लंघन किया था, सूत्रों के हवाले से ये जानकारी दी गई है. सूत्रों ने आगे कहा कि चीनी सैनिक, राज्य के चमोली जिले के बाराहोटी गांव में भारतीय क्षेत्र में चार किलोमीटर तक घुस आए थे. 


वर्ल्ड हंगर इंडेक्स की भयावह रिपोर्ट: एक तरफ भोजन की बर्बादी, दूसरी ओर भूखी आबादी

नई दिल्ली: भोजन की बर्बादी, सिर्फ हमारे देश में ही नहीं बल्कि समूचे विश्व के लिए एक गंभीर समस्या है. लेकिन अगर भारत की बात करें तो यह मुद्दा काफी हद तक संवेदनशील भी है, क्योंकि जिस देश ने दुनिया को अन्न का उपार्जन करना सिखाया हो, उस देश में अन्न का अपमान किया जाए, वो भी ऐसे हालातों में जब देश का एक बड़ा तबका रोटी के टुकड़े के लिए तरस रहा है. इसे निश्चित रूप से एक त्रासदी कहा जा सकता है. वर्ल्ड हंगर इंडेक्स की रिपोर्ट इसकी एक भयावह तस्वीर पेश करती है. आइए देखते हैं कुछ आंकड़े की कितना भोजन बर्बाद होता है और कितने उस भोजन के लिए तरसते हैं.

 

ख़बरें और भी 

पेट्रो केमिकल फैक्ट्री में फटा बॉइलर, कई मजदूरों ने गंवाई अपनी जान

Video : बेगम कुलसुम को आखिरी विदाई देते हुए भावुक हुए नवाज शरीफ

आर्टिकल 377 : जानिए समलैंगिक संबंधों पर भारत के किन पड़ोसी देशों में क्या-क्या नियम है

अखिलेश ने बीजेपी पर लगाया जातिगत राजनीति करने का आरोप

?