चुनाव आयोग VVPAT मशीनों में संशोधन करें - सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को चुनाव आयोग से कहा कि वह मतदाताओं की वोट पर्ची (वीवीपैट) मशीनों में संशोधन पर विचार करने को कहा है, ताकि मतदाता गलत मतदान होने पर अपना वोट रद्द कर सके.कोर्ट ने एक इंजीनियर की याचिका पर यह सलाह देकर अपील पर फैसला देने से इंकार कर चुनाव आयोग जाने की सलाह दी गई.

उल्लेखनीय है कि चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष एक इंजीनियर ने एक याचिका दायर कर कहा कि मशीन दोषमुक्त नहीं है . यदि कोई मतदाता अपनी पसंद के उम्मीदवार को वोट देने में विफल रहते हैं, तो इसमें वोटिंग रोकने या रद्द करने का इसमें कोई प्रावधान नहीं है, जबकि ऐसा प्रावधान किया जाना चाहिए. इस मामले में शीर्ष अदालत की पीठ ने याचिकाकर्ता की अपील पर फैसला देने से इंकार करते हुए उन्हें अपनी याचिका के साथ चुनाव आयोग के समक्ष प्रस्तुति देने के निर्देश दिए.

बता दें कि शीर्ष अदालत ने इस याचिका पर पीठ ने कहा, ‘व्यक्तिगत रूप से याचिकाकर्ता की दलील सुनने के बाद हम उन्हें चुनाव आयोग में ही प्रस्तुति देने की छूट दे सकते हैं. इस छूट के साथ ही उनकी याचिका ख़ारिज कर दी. कोर्ट ने यह सलाह इसलिए दी , क्योंकि मूलतः यह मामला चुनाव आयोग से जुड़ा हुआ है. याचिकाकर्ता चुनाव आयोग के समक्ष प्रस्तुति देकर यह बता सकता है कि वीवीपैट मशीनें त्रुटिमुक्त नहीं हैं. स्मरण रहे कि 2014 लोकसभा चुनाव के समय वीवीपैट मशीनें पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर 543 में से मात्रआठ लोकसभा क्षेत्रों में लगाई गई थीं.

यह भी देखें

अमरनाथ यात्रा: बाबा बर्फानी के भक्तों के लिए खुश खबर

केंद्रीय सरकारी कर्मचारियों के लिए SC का बड़ा फैसला

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -