असाध्य रोगों को आसानी से दूर करने में सक्षम है ॐ

 

हिन्दू धर्म में ॐ को बहुत पवित्र व महत्वपूर्ण माना जाता है. हिन्दू धर्म के अधिकतर मंत्रों में ॐ का उच्चारण होता है, जब भी व्यक्ति के कानों में ॐ की ध्वनी सुनाई देती है, तो उसके अंतरमन को अलौकिक शांति प्राप्त होती है. यदि व्यक्ति नियमित रूप से ॐ का उच्चारण करता है, तो उसके जीवन से बहुत प्रकार की समस्याएँ स्वतः ही समाप्त हो जाती है. ॐ का निर्माण तीन शब्द अ, उ, म और चन्द्र के संयोग से हुआ है, जिसका उच्चारण व्यक्ति को आध्यात्मिकता के मार्ग पर ले जाता है. आइये जानते है ॐ का उच्चारण व्यक्ति को कौन-कौन से लाभ पहुंचाता है?

शारीरिक लाभ – जो व्यक्ति नियमित रूप से ॐ का उच्चारण करते है, उनका शरीर हमेशा स्वस्थ रहता है. ॐ का उच्चारण करने से व्यक्ति रोग मुक्त रहता है.

अलौकिक शांति – जो व्यक्ति ॐ का उच्चारण करते है, उन्हें अलौकिक शांति प्राप्त होती है, जिससे उसका अंतर्मन शुद्ध होता है. ॐ का उच्चारण व्यक्ति को कई प्रकार के मानसिक रोगों से भी बचाता है.

भय से मुक्ति – ॐ का उच्चारण करने से व्यक्ति को सभी प्रकार के भय से मुक्ति मिलती है, क्योंकि इसका उच्चारण व्यक्ति के साहस में वृद्धि करता है व शरीर में ऊर्जा के प्रवाह को बढ़ाता है.

बांझपन से मुक्ति – एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि ॐ का उच्चारण करने से बांझपन की समस्या समाप्त हो जाती है, व एड्स जैसे असाध्य रोग भी ठीक हो जाते है.

क्रोध से मुक्ति – जिस व्यक्ति को अधिक क्रोध आता है उसके लिए ॐ का उच्चारण बहुत ही लाभदायक होता है व इससे व्यक्ति के आपसी रिश्तों में भी मधुरता आती है.

चैत्र नवरात्रि 2018 : नौ दिनों तक इन रंगो के वस्त्र धारण कर करे माँ की आराधना

चैत्र नवरात्रि 2018 : कन्या पूजन और कन्या भोज से होनें वाले चमत्कारी लाभ

चैत्र नवरात्रि 2018 : नवरात्रि में माँ के आशीर्वाद और कृपा से भरे सन्देश

चैत्र नवरात्रि 2018 : नवरात्रि का महत्व और खास चमत्कारी मंत्र

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -