83 Movie Review: रोमांचक संघर्ष को दिखाकर भावुक कर देने वाली कहानी हैं 83, खलनायक बने गावस्कर

फिल्म- 83
कलाकार- रणवीर सिंह , साकिब सलीम , ताहिर राज भसीन , जीवा , जतिन सरना , हार्डी संधू , एमी विर्क , राजेंद्र काला , नीना गुप्ता , पंकज त्रिपाठी और दीपिका पादुकोण
लेखक- कबीर खान , संजय पूरन सिंह चौहान और वासन बाला
निर्देशक- कबीर खान
निर्माता- दीपिका पादुकोण , साजिद नाडियाडवाला , विष्णु इंदुरी और कबीर खान
रेटिंग-  4/5

कहानी और प्रदर्शन- फिल्म ‘83’ उस दौर की कहानी है जब भारत बस क्रिकेट खेलता था। उस समय जीतना उसकी आदत में ही शुमार नहीं था। आपको बता दें कि क्रिकेट टीम के तमाम खिलाड़ियों ने साल 1983 वर्ल्ड कप जाने का प्लान भी इस तरह से बनाया था कि वापसी की टिकटें फाइनल से पहले की ही बुक करा रखी थीं और कुछ तो यहीं से अमेरिका घूमने की तैयारी करने निकले थे। आपको बता दें कि फिल्म ‘83’ क्रिकेट की अनिश्चितताओं की जीत है। हालाँकि साल 1983 में इस देश में बहुत कुछ हुआ। उस समय कपिल देव की टीम ने क्रिकेट को विश्व कप जीतवा दिया था। उस टीम में सुनील गावस्कर भी थे। आप सभी को बता दें कि फिल्म ‘83’ क्रिकेट के इस ‘महान’ खिलाड़ी पर बहुत शांत लेकिन ऐतिहासिक टिप्पणी है।

इस फिल्म देखकर पहला सवाल जेहन में यही आता है कि 'क्या गावस्कर ने पूरी कोशिश की थी कि भारतीय टीम 1983 का वर्ल्ड कप न जीते? फिल्म ‘83’ क्रिकेट के एहसासों की जीत है।' इस फिल्म के निर्देशक कबीर खान ने ये फिल्म वहां से शुरू की जहां क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के पास वर्ल्ड कप खेलने का न्यौता आता है। फिल्म ‘83’ कपिल देव और टीम के तब के मैनेजर मान सिंह के नजरिये से एक विजय यात्रा की कहानी कहती है। यह यात्रा तिरस्कार, अपमान, असहयोग और असहमति की यात्रा है और ये यात्रा आत्मविश्वास, नेतृत्व क्षमता, उदाहरण से सबक सिखाने और हर हाल में हिम्मत न हारने की भी कहानी है। जी दरसल यह एक उस ‘पागल’ इंसान की कहानी है जिसने पहले दिन से ठान रखा था कि वह इंग्लैड वर्ल्ड कप जीतने पहुंचा है।

फिल्म ‘83’ इसकी लेखन टीम की जीत है। फिल्म ‘83’ की कास्टिंग का नगीना हैं रणवीर सिंह। वह रूप रंग के अलावा कपिल देव जैसा अंदाज अपनाने में भी आगे रहे। उनकी अदाकारी को देखकर दिल वही अटकने वाला है। उनके बोलने का लहजा, चलने का लहजा तक तो ठीक है लेकिन बोलिंग करते समय सीम पर वैसी ही ग्रिप और दौड़ना शुरू करते समय ठीक उसी मुद्रा में दोनों हाथ रखना, उनका कमाल है। पूरी फिल्म में आपको कहीं रणवीर सिंह दिखता ही नहीं बल्कि जो परदे पर है वह कपिल देव ही हैं।

देखे या नहीं- फिल्म ‘83’ की कलाकारी ने सभी का मन मोह लिया। फिल्म में वर्ल्ड कप जीतने के बाद ट्रॉफी मिलने वाले दृश्य के बाद आपको अंदाजा होगा कि इसमें कितने लोगों का पसीना बहा है। फिल्म को आखिर तक देखिएगा तो आपको आनंद ही आनंद आएगा इतना तो तय है। फिल्म धमाकेदार है।

बुर्ज खलीफा पर 83 का ट्रेलर, देखकर रोने लगी दीप‍िका पादुकोण

इस दिन होगा रणवीर-दीपिका की फिल्म '83' का ग्रैंड प्रीमियर

पाकिस्तानी पत्रकार से बोले रणवीर सिंह- बतौर पाकिस्तानी '83' देखकर आप बहुत खुश होंगे...

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -