इंदौर में 78 नए केस आए सामने, मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 1858 पंहुचा

मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी में कोरोना के नए मरीज मिलने का सिलसिला लगातार जारी है. शनिवार रात आई रिपोर्ट में 78 लाेगों में कोरोना की पुष्टि की गई जिससे शहर में संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 1858 पर पहुंच गया है. लगातार पॉजिटिव मरीज मिलने से 17 मई को लॉकडाउन खुलने की संभावना नजर नहीं आ रही है. इंदौर में लॉकडाउन 30 मई तक जारी रह सकता है. हालांकि इसमें चरणबद्ध तरीके से छूटें मिलती जाएंगी. जब तक पॉजिटिव मरीज मिलेंगे, तब तक राहत नहीं मिलेंगी. राजबाड़ा, 56 दुकान जैसी भीड़ वाली जगहें दो से तीन महीने तक खुलना मुश्किल है. मॉल, टॉकीज भी नहीं खुलेंगे, क्योंकि जून-जुलाई में फिर वायरस के पीक पर आने की आशंका है.  

दरअसल, शनिवार रात आई रिपोर्ट के मुताबिक इंदौर में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 1858 हो गई है. शनिवार को 1196 सैंपलों में से 1118 की रिपोर्ट निगेटिव आई जबकि 78 की पॉजिटिव. सीएमएचओ कार्यालय के मुताबिक अब तक इंदौर जिले में 13940 सैंपलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हो गई है. वहीं, अब तक इस बीमारी से 89 लोगों की मौत हो चुकी है. एक राहत वाली बात यह है कि 891 मरीज इस बीमारी से पूरी तरह से ठीक भी हो चुके हैं. वर्तमान में 878 कोरोना पॉजिटिव मरीजाें का उपचार विभिन्न अस्पतालों में किया जा रहा है.

आपको बता दें की बैंक बंद होने से पेंशनरों को पेंशन लेने में समस्या आ रही है. ऐसे में कलेक्टर मनीष सिंह ने आदेश जारी किया है कि पेंशनरों को घर के पास वाली पेंशन संबंधी बैंक की शाखा में जाकर आवेदन करना होगा. संबंधित बैंक लीड बैंक मैनेजर को ई-मेल कर इसकी जानकारी देंगे और ऑनलाइन मंजूरी लेंगे. मंजूरी मिलने पर बैंक पेंशनर को तय वक्त देकर उन्हें बुलाएंगे. यह मंजूरी 11 से 25 मई तक के लिए जारी की है. पेंशनर काे बैंक जाने-आने के लिए अलग पास की जरूरत नहीं होगी. उन्हें पेंशन बुक, पेंशन पेमेंट आर्डर आदि साथ में रखना होगा. बैंक पेंशनराें तक पहुंचने के लिए मोबाइल वैन के जरिए कियोस्क भी चला सकते हैं.

मरीजों को अस्पताल से डिस्चार्ज को लेकर यहां पर अभी नहीं लागू होगी नई गाइडलाइन

इंदौर के इस क्षेत्र में लगातार बढ़ रहे है कोरोना के मामले

विदेशों में फंसे यात्री और पर्यटक को विशेष विमान से लाया जाएगा भोपाल

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -