मुंबई में 7 साल के बच्चे ने जीते हैं शतरंज में कई खिताब

Dec 05 2018 05:00 PM
मुंबई में 7 साल के बच्चे ने जीते हैं शतरंज में कई खिताब

मुंबई: भारत में विश्वनाथन आनंद के आने के बाद से शतरंज में बहुत सी नई प्रतिभाएं आई हैं। जानकारी के अनुसार बता दें कि बहुत से बच्चे कम उम्र में ही शतरंज में महारत हासिल करने लगे हैं। यहां बता दें कि ऐसे में एक ऐसा नाम सामना आया है जिसने महज 7 साल उम्र में ही शतरंज में अपने बेहतरीन हुनर का परिचय दिया है। बता दें कि मुंबई में रहने वाले जयवर्धन राज ने हाल ही में वेस्टर्न एशियन चैस टूर्नामेंट में 2 सिल्वर और 1 ब्रॉन्ज मेडल हासिल किया है। 

हॉकी वर्ल्ड कप: ऑस्ट्रेलिया ने क्वार्टर फाइनल में बनाई जगह, इंग्लैंड को 3-0 से हराया

इसके साथ ही बता दें कि मुंबई के जुहू इलाके में रहने वाले जयवर्धन अभी सेकंड स्टैण्डर्ड में पढ़ रहे हैं। वहीं जय ने 5 साल की उम्र में पहली बार शतरंज का खेल खेला और उसके बाद यह खेल उनका शौक बन गया। बता दें कि धीरे धीरे वे लोकल टूर्नामेंट्स में ना केवल हिस्सा लेने लगे और लगातार जीतने भी लगे। जीत के इसी क्रम ने उनके इस शौक को उनका जूनून बना दिया। जय ने द एशियन स्कूल यू रैपिड गेम्स में गोल्ड जीता, उसके बाद महाराष्ट्र चेस टूर्नामेंट की चारों केटेगरी क्लासिकल, रैपिड, ब्लिट्ज, और स्कूल में गोल्ड जीता, एमएसएसए यू-7 श्रेणी में गोल्ड और राष्ट्रीय शतरंच चैंपियनशिप में सिल्वर जीता है। 

भारत ने 2032 में होने वाले ओलंपिक की मेजबानी के लिए लिखा पत्र

दरअसल जिस जीत ने जयवर्धन का डंका पूरी दुनिया में बजाया है वे अंडर 8 केटेगरी में उज्बेकिस्तान में खेले गए वेस्टर्न एशियाई कन्ट्रीज टूर्नामेंट, इस टूर्नामेंट में जयवर्धन ने तीन केटेगरी में 2 सिल्वर और 1 ब्रॉन्ज मेडल हासिल किया है। वहीं जयवर्धन ने बताया की वे 7 से 8 घंटे एक दिन में शतरंज खेलते है, और इसमें उन्हें कोई बोरियत नहीं होती है।


खबरें और भी

दिल्ली डेयरडेविल्स आईपीएल 2019 में उतरेगी नए नाम के साथ, टीम में हुए कई बदलाव

मिचेल मार्श ने कहा विराट के साथ ही सभी खिलाड़ियों के लिए तैयार है खास प्लान

विश्व कप में गोल्ड मैडल लाने वाले शूटर को एक नौकरी नहीं दे सकी हरियाणा सरकार, मजबूरन ज्वाइन किया ONGC