65 अध्यक्षों-पदाधिकारियों ने छोड़ा AAP का साथ, केजरीवाल कैसे जीतेंगे पंजाब ?

अमृतसर: पंजाब में आम आदमी पार्टी (AAP) की सत्ता हासिल करने की कोशिशों को बड़ा झटका लगा है। एक ओर दिल्ली के मुख्यमंत्री और AAP अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल, पंजाब में जीत को लेकर आश्वस्त नजर आ रहे हैं, तो वहीं जलांधर में उनकी पार्टी की पूरी यूनिट ने इस्तीफा दे दिया है। विधानसभा चुनाव से पहले ऐसा लग रहा है जैसे आप में सब कुछ सही नहीं चल रहा है।

दरअसल, जलांधर के दो विधानसभा क्षेत्रों में आम आदमी पार्टी (AAP) के कुल 65 पदाधिकारियों ने सोमवार को पार्टी से त्यागपत्र दे दिया है। इन नेताओं ने दावा किया है कि वो पंजाब में तानाशाही और स्थानीय नेताओं को इज्जत नहीं मिलने की वजह से इस्तीफा देने के लिए विवश हो गए हैं। AAP से इस्तीफा देने वालों में वार्ड अध्यक्ष, मंडल अध्यक्ष, प्रखंड अध्यक्ष, समन्वयक और अन्य स्थानीय नेता-कार्यकर्ता शामिल हैं।

पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष डॉ शिव दयाल माली ने इस मामले में जानकारी देते हुए कहा कि जालंधर पश्चिम से 28 और जालंधर सेंट्रल विधानसभा क्षेत्र के 37 पदाधिकारियों ने अपना पार्टी नेतृत्व को अपना इस्तीफा भेजा है। उन्होंने कहा कि पूरी राज्य इकाई दिल्ली से नियंत्रित हो रही है और स्थानीय नेताओं को कोई स्वतंत्रता नहीं है। उन्होंने कहा कि 2017 के विधानसभा चुनाव में चुने गए AAP के ज्यादातर विधायक दिल्ली के नेताओं की तानाशाही की वजह से पहले ही पार्टी छोड़ चुके हैं।

'लड़की हैं तो क्या, टिकट दे दें ..', लड़की हूँ लड़ सकती हूँ अभियान पर बोलीं कांग्रेस नेता शहला अहरारी

चरणजीत चन्नी ही होंगे कांग्रेस के CM फेस, जानिए सोनू सूद ने कैसे दिए संकेत, Video

यूपी चुनाव में पीएम मोदी ने खुद संभाला मोर्चा, टिकट बंटवारे पर बैठक में हुए शामिल

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -